सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भड़के, कहा- BJP सरकार बंद करे किसानों का शोषण

Smart News Team, Last updated: 11/12/2020 01:15 PM IST
  • समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट करके लिखा कि भाजपा सरकार पोषण करने वालों का शोषण करना बंद करे! साथ ही किसानो की मांगो को भी मानने की बात कही.
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा: BJP सरकार किसानो का शोषण करना बंद करे

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने किसान आंदोलन को लेकर एक बार फिर बीजेपी सरकार को घेरते हुए उसपर हमला किया है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को ट्वीट करते हुए लिखा कि सड़कों पर ठिठुरते आंदोलनकारियों की जायज़ माँगों को लेकर भाजपा सरकार हृदयहीन रवैया अपनाकर किसानों की घोर उपेक्षा कर रही है. साथ ही यह भी कहा कि जो हमारा पोषण करते है उनका शोषण करना बीजेपी सरकार बंद करे.

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शुरू से ही नए किसान कानून का विरोध कर रहे है और जब से दिल्ली बॉर्डर पर किसान इस कानून का विरोध कर रहे है तो ये उनका समर्थन भी कर रहे है. अखिलेश यादव किसानो द्वारा भारत बंद का भी समर्थन करते हुए वह इनसे मिलने जा रहे थे, लेकिन उन्हें लखनऊ में ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. साथ ही उनपर मुकदमा भी दर्ज कराया गया था. जिसके बाद से सपा अध्यक्ष बीजेपी सरकार को हर तरफ से घेर रही है.

11वीं के छात्र ने लखनऊ में लड़कियों की रक्षा के लिए बनाया App, नाम दिया 'बहन'

इसी तरह शुक्रवार को बीजेपी सरकार को घेते हुए अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा कि सड़कों पर ठिठुरते आंदोलनकारियों की जायज़ माँगों को लेकर भाजपा सरकार हृदयहीन रवैया अपनाकर किसानों की घोर उपेक्षा कर रही है. इस पर जो वैश्विक प्रतिक्रिया आ रही है, उससे दुनियाभर में भारत की लोकतांत्रिक छवि को गहरी ठेस पहुँची है. भाजपा सरकार पोषण करनेवालों का शोषण करना बंद करे!

IMA का विरोध, निजी डॉक्टर रखेंगे बंद, सिर्फ इमरजेंसी वार्ड चालू

ट्वीट के बाद अखिलेश यादव ने अपना एक बयां जारी करके कहा कि किसान पिछले चौदह दिनों से खुसे आसमान के निचे कड़कती ठंड में अपनी बात सुनाने के लिए सड़क पर है, लेकिन अपनी मन की बात पुरे देश को जबरन सुनाने वाले किसान क बात सुनने को तैयार नहीं है. साथ ही भाजपा सरकार पर उन्होंने आरोप लगाए कि सरकार बनाने के लिए किसानो से कर्ज माफी, फसल की लागत बढ़ाने अदि कई वादे किए थे लेकिनं उनमे से एक भी पूरा नहीं किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें