कृषि बिल वापसी पर बोले अखिलेश- साफ नही है इनका दिल, चुनाव बाद फिर लायेंगे बिल

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 19th Nov 2021, 2:01 PM IST
  • समाजवादी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार द्वारा कृषि बिल को वापस लिए जाने पर कहा कि 3 कृषि क़ानून किसान हित में तो वापस हुए ही हैं लेकिन सरकार चुनाव से डर गई और वोट के लिए कानून वापस लिए हैं. इसके साथ ही अखिलेश यादव ने आगे कहा कि साफ नही है इनका दिल, चुनाव बाद फिर लायेंगे बिल.
कृषि बिल वापसी पर बोले अखिलेश- साफ नही है इनका दिल, चुनाव बाद फिर लायेंगे बिल

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कृषि बिल वापस लेने की घोषणा किया है. साथ ही पीएम मोदी ने किसानों को खेतो में वापस लौट जाने का आग्रह किया है. जिसपर समाजवादी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि साफ नही है इनका दिल, चुनाव बाद फिर लायेंगे बिल. इसके साथ ही अखिलेश यादव ने कहा कि अमीरों की भाजपा ने भूमिअधिग्रहण व काले कानूनों से ग़रीबों-किसानों को ठगना चाहा. कील लगाई, बाल खींचते कार्टून बनाए, जीप चढ़ाई लेकिन सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-कानून वापस ले ही लिए. भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी.

इसके साथ ही अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि किसान माफ नहीं करेंगे और भाजपा का सफाया कर देंगे ... वोट के लिए कानून वापस ले लिए गए हैं क्योंकि सरकार चुनावों से डरती है. क्या होगा अगर वे चुनाव के बाद ऐसे कानूनों को वापस लाते हैं? वे किसानों के बारे में नहीं सोच रहे हैं, हर स्तर पर उनका अपमान किया. क्या बीजेपी माफी मांगेगी ?

कृषि कानून की वापसी पर संजय, मायावती, प्रियंका व राहुल ने मोदी सरकार पर हमला बोला

इसके साथ ही अखिलेश यादव ने आगे कहा कि 3 कृषि क़ानून किसान हित में तो वापस हुए ही हैं लेकिन सरकार चुनाव से डर गई और वोट के लिए कानून वापस लिए हैं... हो सकता है कि सरकार चुनाव के बाद फिर से ऐसा कोई क़ानून लेकर आए. यह भरोसा कौन दिलाएगा कि भविष्य में ऐसे कानून नहीं आएंगे जिससे किसान संकट में आए? अखिलेश यादव ने आगे कहा कि किसानों की मेहनत रंग लाई है. यह अहंकार की हार है और किसानों, लोकतंत्र की जीत है. जनता उन्हें (केंद्र को) आगामी चुनावों में माफ नहीं करेगी. ये झूठी माफी नहीं चलेगी... माफी मांगने वालों को भी राजनीति से हमेशा के लिए इस्तीफा दे देना चाहिए..

इसके साथ ही अखिलेश यादव ने लखीमपुर खीरी हिंसा पर बोलते हुए कहा कि न केवल (केंद्रीय) कैबिनेट बल्कि पूरी सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए. जिस मंत्री पर लखीमपुर हिंसा मामले में आरोप लगे हैं, वह अभी भी मंत्रालय में है... कौन आश्वस्त करेगा कि भविष्य में ऐसा कोई कानून (कृषि कानून) नहीं होगा?

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें