हाथरस-बलरामपुर गैंगरेप के विरोध में प्रदर्शन कर रहे सपाइयों को अस्थायी जेल भेजा

Smart News Team, Last updated: 02/10/2020 02:56 PM IST
लखनऊ के हजरतगंज के जीपीओ के सामने हाथरस और बलरामपुर में हुए गैंगरेप व हत्या के विरोध में प्रर्दशन कर रहे 15 सपाइयों को गुरुवार की रात को अस्थायी जेल भेजा गया है. यह सपा के कार्यकर्ता गुरुवार को प्रदेश में अराजकता और खराब हो चुकी कानून व्यवस्था के खिलाफ विरोध के रूप में प्रर्दशन कर रहे थे.
हाथरस-बलरामपुर गैंगरेप के विरोध में प्रदर्शन कर रहे सपाइयों को अस्थायी जेल भेजा

लखनऊ. लखनऊ के हजरतगंज के जीपीओ के सामने हाथरस और बलरामपुर में हुए गैंगरेप व हत्या के विरोध में प्रर्दशन कर रहे 15 सपाइयों के जेल भेजा गया है. इन्हें पुलिस ने फैजाबाद में स्थित अस्थायी जेल में रखा है. यह सपा के कार्यकर्ता गुरुवार को प्रदेश में अराजकता और खराब हो चुकी कानून व्यवस्था के खिलाफ विरोध के रूप में प्रर्दशन कर रहे थे.

जिन लोगों को गुरुवार की देर रात अस्थायी जेल भेजा गया है. उनके नाम है- मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस रजा, युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष अरविंद गिरी, छात्र सभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव, महानगर नगर अध्यक्ष यूथ ब्रिगेड अजय यादव, पवन सरोज (नगर अध्यक्ष अनूसूचित जनजाति) ,राजेंद्र पांडेय (महानगर अध्यक्ष लोहिया वाहिनी) के अलावा विवेक सिंह, रॉबिन सिंह यादव,रवि प्रकाश यादव, अभिनव श्रीवास्तव,नितेंद्र सिंह, शैलेश यादव, तुषार त्रिपाठी, राकेश चौधरी और प्रदीप सिंह पानु है.

हाथरस कांड पर प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस का लाठीचार्ज, गिरफ्तार

जीपीओ के सामने प्रदर्शन के दौरान गुरुवार दोपहर को पुलिस ने बरबरतापूर्वक लाठियों से पीटा समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को पीटा. जिस कारण करीब दर्जन भर चोटिल हो गए थे.इसके बाट पुलिस ने इन्हें हिरासत में लेकर आलमबाग के इकोगार्डन ले गये.

हाथरस जाते राहुल, प्रियंका को नोएडा में अरेस्ट के बाद छोड़ा, गेस्ट हाउस से निकले

बता दें कि 14 सितंबर को हाथरस के चंदपा गांव में दलित युवती का गैंगरेप हुआ था. इलाज के दौरान गैंगरेप पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई थी. पुलिस ने रात को लड़की के परिवार को बिना बताएं शव को जला दिया. बलरामपुर के थाना गैसड़ी में एक छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ है. इसी कारणअब योगी सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ विपक्षी पार्टियां और नेता विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें