यूपी चुनाव: राजभर और AIMIM प्रमुख ओवैसी की लखनऊ में बैठक, भागीदारी संकल्प मोर्चा के लिए बनेगी रणनीति

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 18th Sep 2021, 3:26 PM IST
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों को लेकर सभी दल जुटे हुए हैं. इसी क्रम में सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की लखनऊ में 21 सितंबर को बैठक होगी. इस बैठक में भागीदारी संकल्प मोर्चे के संयुक्त सम्मेलन की तैयारी को लेकर चर्चा होगी.
ओमप्रकाश राजभर और असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

लखनऊ. देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए सभी पार्टियां तैयारियों में जुटी हुई हैं. इसी क्रम में सुहलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर और एआईएमआईएम (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी भी अपने भागीदारी संकल्प मोर्चे की तैयारियों में जुटे हए हैं. वहीं अब खबर है कि लखनऊ में 21 सितंबर को सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की बैठक होनी है. इस बैठक में यूपी में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए रणनीति और भागीदारी संकल्प मोर्चे के संयुक्त सम्मेलन की तैयारी को लेकर भी चर्चा की जाएगी. भागीदारी संकर्ल मोर्चे की कमान संभाल रहे राजभर ने पहले ही साफ कर दिया है कि वह इस बार बीजेपी के साथ चुनावी मैदान में नहीं रहेंगे और वहीं ओवैसी मुस्लिम वोटरों को साधने में लगे हुए हैं.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए बने भागीदारी संकल्प मोर्चा में कई छोटे मोटे दल हैं. इसके साथ ही राजभर ने कहा कि किसी भी पार्टी से नाराज प्रदेश के छोटे मोटे दलों के लिए भागीदारी संकल्प मोर्चा के दरवाजे हमेशा खुले हए हैं. अब देखना ये है कि यूपी की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी और बसपा, कांग्रेस व सपा पर यह भागीदारी संकल्प मोर्चा कितना असर डालेगा. वहीं ओवैसी फिलहाल 22 सितम्बर से 10 अक्तूबर के बीच यूपी में सम्भल,प्रयागराज, बहराइच, बलरामपुर में शोषित वंचित सम्मेलन करने वाले हैं.

BJP के चाचा जान "असदुद्दीन ओवैसी" यूपी आ गए हैं, किसानों को करेंगे बर्बाद- राकेश टिकैत

राजभर ने पहले ही कह दिया है कि प्रदेश में ओवैसी हमारे साथ चुनाव लड़ेंगे और वह यूपी की 100 सीटों पर AIMIM के उम्मीदवारों को उतारेंगे. विपक्ष पर हमला बोलते हुए राजभर ने कहा था कि प्रदेश के लोगों ने भाजपा, बसपा और सपा सभी का कार्यकाल देख लिया है अब जनता बदलाव मांग रही है. इन सभी पार्टियों की नजर ब्राह्मण वोट पर हैं लेकिन अब ब्राह्मण काफी चालाक है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें