राजद्रोह मामला दर्ज होने पर बोले पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी- मेरे बयान को गलत तरीके से किया पेश

Nawab Ali, Last updated: Mon, 6th Sep 2021, 10:31 PM IST
  • पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी पर योगी सरकार के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने पर राजद्रोह समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हो गया है. सपा सांसद आजम खान के जेल में बंद होने को लेकर अजीज कुरैशी ने योगी सरकार पर विवादित टिप्पणी की थी. रामपुर के सिविल लाइन थाने में अजीज कुरैशी के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है.
पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी के खिलाफ राजद्रोह समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज. (फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर विवादित टिप्पणी करने पर पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी के खिलाफ राजद्रोह समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हो गया है. पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी सपा नेता आजम खान के घर उनकी पत्नी से मिलने गए थे. जहा पर उन्होंने योगी सरकार पर कई विवादित टिप्पणी की थी. अजीज कुरैशी के खिलाफ रामपुर के सिविल लाइन्स थाने में बीजेपी नेता आकाश कुमार सक्सेना ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी जिसके बाद उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है. 

उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार आने के बाद सपा सांसद आजम खान काई मामलों को लेकर जेल में बंद हैं. पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी आजम खान की पत्नी से शनिवार शाम को मिलने उनके घर गए थे. जहां पर उन्होंने योगी सरकार पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि आजम खान की लड़ाई शैतान और इंसान के बीच की लड़ाई है. उन्होंने योगी सरकार की तुलना शैतान, खून पीने वाले दरिंदे से की थी. इस मामले में रामपुर के बीजेपी नेता रामपुर सिविल लाइन्स थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी. पुलिस ने अजीज कुरैशी के खिलाफ आईपीसी की धारा 153ए, 153बी, 124ए, 502 (1) (बी) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है. 

PM मोदी ने तीन तलाक को किया खत्म, आज महिलाएं समाज का कर रहीं नेतृत्व: CM योगी

बीजेपी नेता आकाश कुमार सक्सेना का कहना है कि पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी ने भीड़ के सामने राज्य सरकार की तुलना शैतान से की है. सरकार के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा. बीजेपी नेता आकाश सक्सेना का कहना है कि राज्यपाल के इस बयान के कारण दो समुदायों के बीच शत्रुता छिड़ सकती है. राज्यपाल अजीज कुरैशी ने अपने बायान पर सफाई देते हुए कहा है कि उनके बयान को राजनितिक रूप से गलत तरीके से पेश किया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें