मुन्नवर राणा की बेटी सुमैया समेत दो BSP नेता अखिलेश यादव की SP में शामिल

Smart News Team, Last updated: Tue, 29th Dec 2020, 12:50 PM IST
  • शायर मुनव्वर राणा की बेटी सुमैया राणा के साथ बसपा के दो नेता मसूद आलम और रमेश गौतम अखिलेश यादव की सपा में शामिल हो गए हैं
सुमैया राणा सपा में शामिल.

लखनऊ. मशहूर शायर मुनव्वर राणा की बेटी सुमैया राणा समाजवादी पार्टी में शामिल हो गई हैं. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ मोर्चा खोलने में शामिल सुमैया लखनऊ में राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल रही हैं. सुमैया राणा के साथ बसपा के पूर्व लोकसभा प्रत्याशी मसूद आलम और बसपा के मुख्य कोऑर्डिनेटर रमेश गौतम ने अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली है. 

बसपा ने मसूद आलम और रमेश गौतम को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते बाहर का रास्ता दिखा दिया था. इन दोनों को पार्टी से निकाले जाने के बाद करीब 100 बहुजन समाज पार्टी के पदाधिकारियों और सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया था.  

छात्रवृत्ति घोटाला: योगी सरकार ने 27 निजी आईटीआई संस्थानों को किया ब्लैकलिस्ट

सीएए के विरोध प्रदर्शन यूपी में कई जगह हिंसक भी हुए जिनमें लोगों पर केस भी दर्ज किए गए थे. मुन्नवर राणा की बेटी सुमैया के खिलाफ भी कई मुकदमें दर्ज हुए थे. इसी साल नंवबर के महीने में उन्हें घर में ही नजरबंद भी किया गया था.   

प्रेस कांफ्रेंस में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तीनों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की घोषणा की और साथ ही बताया कि यूपी विधानसभा चुनाव के लिए वह छोटे दलों से तालमेल की गुंजाइश रखेंगे और इस बार ऐतिहासिक बदलाव होने वाला है. हमारी सरकार बनने पर एनआरसी पर दर्ज मुकदमे वापस होंगे. अखिलेश ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि बीजेपी अर्थव्यवस्था को खराब कर दिया है. 

रजनीकांत की राजनीति में नो-एंट्री, कहा- तबीयत खराब होना भगवान की चेतावनी

लखनऊ: पुलिस ने नए साल के कार्यक्रम करने पर बिना अनुमति के लगाई रोक, गाइडालन जारी

यूपी सरकार का अपना कोई विजन नहीं है इसलिए गोरखपुर में मेट्रो नहीं बन रही है. बाकी जगह सपा के विजन पर ही मेट्रो बन रही है. इसी के साथ पश्चिम बंगाल में बीजेपी सिर्फ नफरत की राजनीति कर रही है. अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पश्चिम बंगाल के जनता से अपील करते हैं कि वह बीजेपी को हराएं. बीजेपी सरकार जब तक रहेगी तबतक लोकतंत्र को बचाया नहीं जा सकता है.

कार पर लिखी जाति तो गाड़ी नहीं होगी जब्त, भरना होगा बार-बार चालान, जानें कितना   

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें