यूपी अगामी विधानसभा चुनाव में शिवसेना उतारेगी अपना उम्मीदवार,जानें पूरी स्ट्रेटज

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Jul 2021, 6:56 AM IST
  • शिवसेना यूपी में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में 200 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी में जुट गई है. इसके लिए जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत बनाने की कवायद शुरू हो गई है. बूथ लेवल पर संगठन को मजबूत बनाने के लिए लोकल नेताओं को जिम्मेदारियां सौंपी गई है.
यूपी के अगामी विधानसभा चुनाव में शिवसेना उतारेगी अपनी उम्मीदवार, फोटो साभार-फेसबुक

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधान सभा चुनाव की तैयारियों में सभी पार्टियां जुट गई है. जहां बीजेपी चुनाव को लेकर लगातार बैठक कर संगठन को मजबूत करने में लगी है. वहीं शिवसेना भी यूपी चुनाव को लेकर मैदान में कूद चुकी है. शिवसेना यूपी, गोवा और गुजरात में चुनाव लड़ने का फैसला कर चुकी है. शिव सेना अगले साल यूपी में होने वाले चुनाव में बीजेपी को टक्कर देने की स्ट्रेटजी बना रही है. सूत्रों के अनुसार आगामी चुनाव में शिवसेना करीब 200सीटों पर अपना उम्मीदवार उतारेगी.

यूपी, गुजरात और गोवा में अगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए शिवसेना अपने संगठन को इन राज्यों में विस्तार करने में लगी है. वहीं यूपी और गुजरात में शिवसेना हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है. यूपी इकाई का कार्यभार देख रहे शिवसेना के वरिष्ठ नेता कीर्तिकर को यूपी में जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत बनाने का निर्देश दिया गया है. साथ ही खबर मिल रही है कि विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही शिवसेना यूपी में अपने वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारियां सौंपेगी. फिलहाल बूथ लेवल पर पार्टी को मजबूत करने के लिए शिवसेना अभी से लोकल नेताओं को जिम्मेदारी सौंप रही है.

उधर बीजेपी का कहना है कि शिवसेना का यूपी में कोई आधार नहीं है. इसलिए शिवसेना अभी यूपी में बीजेपी से टक्कर में कहीं नहीं है. वहीं शिवसेना चुनाव में हिंदुत्व के मुद्दे को उछालते हुए बीजेपी के कमजोरियों का फायदा उठाने की कोशिश में लगी है. शिवसेना ने कुछ दिन पहले ही पश्चिमी सीटों के उम्मीदवार के सिलेक्शन के लिए दिल्ली में इंटरव्यू भी किया है. बताया जा रहा है कि अगले महीने तक शिवसेना यूपी चुनाव को ध्यान में रखते हुए कार्यकारणी भी गठित करेगी.

हाईकोर्ट का सख्त आदेश- जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव निष्पक्ष ON VIDEO कराए आयोग

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें