मायावती की BSP का टिकट दिलाने के नाम पर 30 लाख की ठगी, सिराथू विधानसभा की थी डील

Sumit Rajak, Last updated: Sat, 4th Dec 2021, 11:36 AM IST
  • कौशाम्बी के सिराथू विधानसभा से बहुजन समाज पार्टी (BSP) का टिकट दिलाने के नाम पर के एक व्यापारी से 30 लाख रुपये हड़प लिए. पीड़ित का आरोप है कि उसने लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में पुराना किला स्थित पार्टी के मंडल कार्यालय में रुपये में दिए थे. साथ ही उन्हें बसपा के लेटरहेड की हूबहू कॉपी दी गई. जिसमें टिकट पक्का होने की बात लिखी थी. अपने साथ हुई ठगी के संबंध में लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर से मिलकर शिकायत की है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. कौशाम्बी के सिराथू विधानसभा से बहुजन समाज पार्टी (BSP) का टिकट दिलाने के नाम पर के एक व्यापारी से 30 लाख रुपये हड़प लिए. पीड़ित का आरोप है कि उसने लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में पुराना किला स्थित पार्टी के मंडल कार्यालय में रुपये में दिए थे. रुपये लेने वाले शख्स ने उनको एक रसीद भी दी थी. अपने साथ हुई ठगी के संबंध में पीड़ित ने शुक्रवार को लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर से मिलकर शिकायत की है. इसके बाद उनके निर्देश पर आशियाना पुलिस भी मामले की जांच कर रही है.

कौशांबी के रहने वाले व्यापारी और फरीद खान के अनुसार 2012 में उन्होंने सिराथू विधानसभा का चुनाव कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था. फरीद ने वर्ष 2017 में हुए चुनाव के लिए बसपा के नेता से भी सम्पर्क किया था. जबकी उनसे रुपये लेने के बाद भी बसपा पार्टी ने टिकट नहीं दिया था. फरीद ने बताया कि इस बार भी वह टिकट के लिए प्रयास कर रहा थे. उन्होनें बताया कि 21 नवंबर को उन्हें कॉल कर बसपा का टिकट दिलाने का दावा किया गया था. इस दौरान शख्स ने बताया था कि पिछली बार आपके साथ धोखा हो गया था. इसकी जानकारी हमें हैं. आने वाले आगामी विधानसभा चुनाव में सिराथू सीट से आपका टिकट सिर्फ 70 लाख रुपये कर दिया जाएगा. फरीद ने बताया कि फोन करने वाले शख्स ने दावा किया कि इस वक्त में टिकट के लिए तीन करोड़ रुपये देने पड़ रहे हैं. बातचीत में 30 लाख रुपये में सौदा तय हुआ. साथ ही बचे हुए रुपये को कुछ वक्त दिया गया था.

Video: दारोगा की कार से गाड़ियों में टक्कर, गुस्से में थप्पड़ जड़ने वाला युवक गिरफ्तार

व्यापारी फरीद खान ने भरोसा कर आशियाना स्थित पार्टी के मंडल कार्यालय 30 लाख रुपये लिए पहुंच गए थे. साथ ही उन्हें बसपा के लेटरहेड की हूबहू कॉपी दी गई. जिसमें टिकट पक्का किए जाने की बात लिखी थी. इसके बाद फरीद ने परिचितों से मुलाकात की तो उन्हें ठगों के जाल में फंसने का पता चला. इसके बाद फरीद ने पार्टी नेताओं से मिल कर शिकायत की. साथ ही उन्हें भरोसा दिया गया था कि एक हफ्ते के अंदर आरोपियों को खोज कर रुपये वापस करा दिए जाएंगे. पीड़ित का आरोप है कि एक हफ्ते का समय गुजर जाने के बाद भी उनको रुपये नहीं मिले. इस पर पीड़ित ने शुक्रवार को पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर से मिलकर मामले की शिकायत की.पुलिस कमिश्नर ने बताया कि फरीद ने संगीन आरोप लगाए हैं. साथ ही उन्होंने प्रार्थना पत्र के साथ जालसाज का पत्र भी दिया है. जिसमें टिकट को फाइनल होने की बात लिखी है. पुलिस कमिश्नर ने बताया कि कागजों की जांच कराई जा रही है. जिसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी.  इस मामले की जांच की जा रही है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें