सहकारिता भर्ती घोटाला: SIT सौंपेंगी योगी सरकार को रिपोर्ट, नप सकते हैं कई अफसर

Smart News Team, Last updated: 13/01/2021 11:54 PM IST
  • सहकारिता भर्ती घोटाले में एसआईटी अपनी जांच जल्द ही योगी सरकार को सौंपेगी. जिसके बाद कई अधिकारियों पर कार्रवाई हो सकती है. आपको बता दें कि सीएम योगी ने 2300 पदों की भर्ती के जांच के आदेश दिए.
सहकारिता भर्ती घोटाले में एसआईटी अपनी जांच जल्द ही योगी सरकार को सौंपेगी.

लखनऊ. सहकारिता के कई संस्थानों में हुई भर्ती की गड़बड़ी में कई अफसरों पर योगी सरकार कार्रवाई कर सकती है. उ.प्र. भंडारागर निगम, पीसीएफ, लैक्फेड और उ.प्र. सहकारी ग्राम विकास बैंक में हुई भर्तियों की अनियमितताओं की जांच एसआईटी कर रही है. एसआईटी जल्द ही रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी. आपको बता दें कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने 2012 से 2017 के बीच हुईं 2300 पदों की भर्ती के जांच के आदेश दिए हैं.

जांच में सहकारिता की इन संस्थाओं की भर्तियों में नियमों की अनदेखी कर शैक्षिक अहर्ताएं और ओएमआर सीट से छेड़छाड़ किए जाने के सबूत मिले हैं. एसआईटी की जांच में इन संस्थाओं की भर्तियों में गड़बड़ी करने के आरोप में तीन रिटायर अधिकारियों के साथ 6 बड़े अफसर और 3-4 अधिकारी फंस सकते हैं. सरकार के पास रिपोर्ट पहुंचने के बाद इन पर गाज गाज गिरनी तय है.

HC का फैसला, स्पेशल मैरिज एक्ट में शादी की मंजूरी के लिए नोटिस छपवाना जरूरी नहीं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद सपा शासनकाल में 2012 से 2017 के बीच सहकारी संस्थाओं में भर्तियों की जांच एसआईटी कर रही है. बताया जा रहा है कि सहकारी की इन संस्थाओं में 2,300 पदों पर भर्तियों में बड़े पैमाने पर हेराफेरी और मनमानी की गई है. एसआईटी की इस जांच में अहर्ताएं बदले जाने और ओएमआर सीट में हेराफेरी के सबूत हाथ लगे हैं.

विवादित ढांचा विध्वंस मामले में HC की लखनऊ बेंच में सुनवाई दो हफ्ते के लिए टली

आपको बता दें कि आरएसएस से जुड़े संगठन सहकार भारती ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सपा शासनकाल में हुई भर्तियों की जांच कराने की मांग की थी. इससे पहले एसटीएफ ने यूपी कोआपरेटिव बैंक में सहायक प्रबंधकों की भर्ती की जांच पूरी की थी जिसमें बड़े पैमाने पर अनियमितताएं पाईं गईं. जिसके बाद कई अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर कराई गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें