अखिलेश के पार्टनर राजभर बोले- जिस सीट से चाहें, SBSP के टिकट पर लड़ें मुख्तार अंसारी

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 3rd Nov 2021, 10:59 PM IST
  • सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर ने बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी से मुलाकात की. मुलाकात के बाद राजभर ने कहा कि हमारी पार्टी न सिर्फ मुख्तार अंसारी बल्कि उनके परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट देने के लिए तैयार है. वे जहां से चुनाव लड़ना चाहें लड़े. इससे पहले अंसारी के भाई सपा में शामिल हो चुके हैं.
अखिलेश के पार्टनर राजभर बोले- जिस सीट से चाहें, SBSP के टिकट पर लड़ें मुख्तार अंसारी (फाइल फोटो) 

लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले जोड़तोड़ के साथ नेता अपनी स्थिति मजबूत करने को माफियाओं का साथ लेने में भी गुरेज नहीं कर रहे हैं. अभी तक समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव गुंडे बदमाशों से दूरी बनाने में लगे हुए थे, उनके ही सहयोगी और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश माफिया मुख्तार अंसारी से मिलने बांदा जेल पहुंचे. इस दौरान करीब एक घंटे चली बैठक के बाद राजभर ने बताया कि अंसारी से चुनाव संबंधी चर्चा हुई. साथ ही राजभर ने अंसारी को चुनाव लड़ाने का भी ऐलान किया है.

ओपी राजभर के इस कदम के बाद से विपक्षी दल ओम प्रकाश राजभर के साथ ही अखिलेश यादव पर भी जमकर निशाना साध रहे हैं. क्योंकि इससे पहले मुख्तार अंसारी के भाई सिबगतुल्ला अंसारी सपा में शामिल हो चुके हैं. जिसको लेकर भाजपा ने यहां तक आरोप लगाया है कि राजभर के जरिए अखिलेश मुख्तार को विधायक बनाने की साजिश कर रहे हैं.

देश को मोदी सरकार का दिवाली गिफ्ट, एक्साइज घटा, पेट्रोल 5 तो डीजल 10 रुपए सस्ता

राजभर ने बताया मसीहा कहा जहां से लड़ना चाहें चुनाव लड़े

ओम प्रकाश राजभर ने मुख्तार अंसारी से मुलाकात के बाद उनको मसीहा बताया. राजभर ने कहा कि उनकी पार्टी सिर्फ मुख्तार अंसारी नहीं बल्कि उनके परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट देने को तैयार है. वे जहां से चुनाव लड़ना चाहें, उन्हें टिकट देकर हम लड़ाएंगे. मुख्तार जनता के वोट से जीतते हैं. अगर वे माफिया होते तो लोग उन्हें वोट क्यों देते. इस नाते मुख्तार गरीबों के मसीहा है.

अब जब कार सेवा होगी तो रामभक्तों, कृष्णभक्तों पर गोली नहीं चलेगी, पुष्पवर्षा होगी: योगी

बता दें कि इससे पहले मुख्तार अंसारी बहुजन समाज पार्टी में थे, लेकिन इस चुनाव में बसपा ने उससे दूरी बनाते हुए उसका टिकट काट दिया था. जिसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि मुख्तार सपा या एआईएमआईएम में जा सकते हैं. वहीं, इसके बीच राजभर की इस मुलाकात के बाद देखना ये होगा कि मुख्तार किस पार्टी से और किस सीट से चुनाव लड़ते हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें