चंद्रशेखर रावण दो सीट पर मान गए थे, फोन आया और पीछे हट गए: अखिलेश यादव

Jayesh Jetawat, Last updated: Sat, 15th Jan 2022, 3:41 PM IST
 सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि आजाद समाज पार्टी के मुखिया चंद्रशेखर आजाद रावण यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर दो सीटों पर गठबंधन के लिए मान गए थे. मगर किसी का फोन आने के बाद वे पीछे हट गए.
सपा प्रमुख अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर आजाद समाज पार्टी के चीफ चंद्रशेखर आजाद रावण की समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव से गठबंधन की बात नहीं बनी. अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि चंद्रशेखर पहले दो सीटों पर गठबंधन के लिए मान गए थे. बाद में फोन आया और वे पीछे हट गए. दूसरी ओर, चंद्रशेखर आजाद ने अखिलेश यादव को दलित विरोधी बताया और कहा कि वे सामाजिक न्याय नहीं समझते.

अखिलेश यादव ने शनिवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि कहा कि जैसे ही चंद्रशेखर आजाद रावण से गठबंधन का न्योता आया, उन्होंने आरएलडी से बात कर आजाद समाज पार्टी के लिए दो सीटें छोड़ दीं. उन्हें रामपुर मनिहारिन और गाजियाबाद की एक सीट देने की बात तय हो गई. 

आजाद समाज पार्टी के चीफ चंद्रशेखर का पुलिस पर आरोप, प्रेस कांफ्रेंस रोकने का किया गया प्रयास

अखिलेश ने कहा कि उसके बाद चंद्रशेखर की किसी से फोन पर बात हुई. फिर वो आए और कहा कि उनका संगठन इसके खिलाफ है और वे चुनाव नहीं लड़ेंगे. अखिलेश ने कहा कि वो फोन किसका था, किसकी साजिश थी, नहीं पता. आज के बाद समाजवादी पार्टी में एक नेता को छोड़कर किसी को नहीं लिया जाएगा.

अखिलेश यादव दलित विरोधी, सामाजिक न्याय नहीं समझते: चंद्रशेखर आजाद रावण

दूसरी ओर, चंद्रशेखर का कहना है कि अखिलेश यादव को दलित समाज की चिंता नहीं है. वह पिछले 6 महीने से अखिलेश से मिल रहे थे. मगर वे सामाजिक न्याय को नहीं समझ पाए. वे वंचित वर्ग के मामले में चुप रहे. चंद्रशेखर ने कहा कि तबीयत खराब होने के बावजूद वह दो दिनों से लखनऊ में हैं और गठबंधन को लेकर अखिलेश यादव के जवाब का इंतजार कर रहे हैं, मगर उन्हें कोई जवाब नहीं मिला.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें