लखनऊ नगर आयुक्त ने बजट में की कटौती, तो विरोध में एक हुए सपा, BJP, कांग्रेस पार्षद

Nawab Ali, Last updated: Fri, 24th Sep 2021, 11:30 PM IST
  • लखनऊ नगर निगम आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने पार्षद निधि में 20 लाख की कटौती कर दी जिसके बाद पार्षदों ने हंगामा शुरू कर दिया. पार्षदों के हंगामे के बाद मेयर संयुक्ता भाटिया ने बजट कटौती के आदेश को निरस्त करने के निर्देश दिए.
लखनऊ नगर निगम में बजट की कटौती पर पार्षदों ने किया हंगामा. (फोटो साभार फेसबुक लखनऊ नगर निगार)

लखनऊ. राजधानी लखनऊ में पार्षद कोटे से मिलने वाले बजट में 20 लाख की कटौती होने पर पार्षदों ने जमकर हंगामा किया है. इतना ही नहीं बजट में कटौती के कारण भाजपा, सपा व कांग्रेस पार्षद एक हो गए. बजट में कटौती के बाद सभी पार्षदों की नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी से जमकर कहासुनी हो गई. महापौर के साथ हुई बैठक में एक पार्षद  की जमकर जमकर बहस हुई. पार्षदों ने बजट में कटौती को तुगलकी फरमान बताया. पार्षदों के विरोध के बाद बजट में 20 की कटौती के आदेश को महापौर ने निरस्त किया. 

राजधानी लखनऊ नगर निगम आयुक्त के एक आदेश ने सपा, कांग्रेस और भाजपा के पार्षदों को एक कर दिया. दरअसल लखनऊ नगर आयुक्त ने सड़कों के पैच वर्क के बजट में 20 लाख रूपये की कटौती कर दी जिसके बाद आक्रोशित भाजपा पार्षद दिलीप श्रीवास्तव, रामकृष्ण यादव, नागेंद्र सिंह चौहान, कांग्रेस की ममता चौधरी, गिरीश मिश्रा तथा सपा के सैयद यावर हुसैन रेशू सहित तमाम पार्षदों ने नगर आयुक्त का घेराव कर दिया. महापौर के साथ बैठक में भी पार्षदों की खूब बहस हुई जिसके बाद महापौर ने बजट की कटौती के आदेश को निरस्त करने के निर्देश दिए. 

मुख्तार अंसारी ने कोर्ट से कहा- जेल में जान पर खतरा है, खाने में जहर दे सकती है सरकार

पार्षदों के साथ हुई बैठक में महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि उन्हें नगर आयुक्त के इस आदेश की जानकारी नहीं थी. पार्षदों के हंगामे और विरोध के बाद महापौर संजुक्ता भटिया ने कटौती का आदेश निरस्त कर दिया. महापौर ने पैचवर्क के बारे में पार्षदों से सहमति लेने को कहा. अब नगर आयुक्त की तरफ से पार्षदों को एक अनुरोध पत्र भेजा जाएगा. पार्षद की सहमति से ही पैच वर्क किया जाएगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें