रैली के दौरान पुलिसवालों पर भड़के अखिलेश यादव, कहा- तुमसे ज्यादा बदतमीज कोई नहीं हो सकता

Atul Gupta, Last updated: Wed, 16th Feb 2022, 7:36 PM IST
  • कन्नौज में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव पुलिसवालों पर भड़क गए और मंच से ही उन्हें हड़काने लगे. अखिलेश यादव ने पुलिसकर्मियों से कहा कि तुमसे ज्यादा बदतमीज कोई नहीं हो सकता.
रैली के दौरान पुलिसवालों पर भड़के अखिलेश यादव (फोटो- सोशल मीडिया)

लखनऊ: पुलिसवालों के बारे में कहा जाता है कि ना तो उनकी दोस्ती अच्छी और ना ही दुश्मनी.. लेकिन ये कहावत आम लोगों के लिए है. नेता लोग तो पुलिस से दोस्ती भी करते हैं और दुश्मनी भी. बस फर्क ये है कि पॉवर अपने हाथ में होनी चाहिए. नेताओं को लगता है पुलिस उनकी गुलाम है जिनके साथ वो जैसा चाहें वैसा सलूक कर सकते हैं.

सपा प्रमुख अखिलेश यादव को ही देख लीजिए, कन्नौज के तिरवा इलाके में सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने मंच से ही पुलिस को ऐसे हड़का दिया जैसे कोई बड़ा किसी बच्चे को हड़काता है. मंच से अखिलेश यादव पुलिसवालों को कहते हैं ऐ पुलिसवालों.... ऐ पुलिस.. पुलिस... ऐ पुलिसवालों क्यों ये तमाशा कर रहे हो? अखिलेश यहीं नहीं रूकते, वो कहते हैं तुमसे ज्यादा बदतमीज कुछ नहीं हो सकता. क्यों ऐसा कर रहे हो भाई.

अखिलेश यादव फिर कहते हैं ये लगता है बीजेपी वाले करवा रहे हैं. अखिलेश आगे कहते हैं कि बीजेपी वालों ने रेड कार्ड इश्यू किए थे याद है कि नहीं याद है और एक जात के अधिकारी थे जिन्होंने अन्याय किया था. जानकारी के मुताबिक पुलिसवाले अखिलेश यादव के मंच के पास जमा भीड़ को हटाने की कोशिश कर रहे थे ताकि उन्हें किसी तरह का कोई नुकसान ना हो लेकिन अखिलेश यादव ने उन्हीं पुलिसवालों को हड़का दिया.

गौरतलब है कि यूपी में जहां एक तरफ कानून व्यवस्था को लेकर सवाल खड़े होते रहे हैं वहीं दूसरी तरफ जाति के हिसाब से पुलिसवालों के तबादले होते रहे हैं. बसपा का आरोप है कि सपा काल में सभी यादव पुलिसकर्मियों को प्रमोशन मिलते हैं और उन्हें महत्वपूर्ण पदों पर बिठाया जाता है वहीं सपा का कहना है कि बसपा के समय में सभी जाटव पुलिसकर्मियों की तरजीह दी जाती है. बीजेपी पर भी जातिवाद के आधार पर नियुक्तियों का आरोप लगता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें