सपा MLA राकेश प्रताप को पुलिस जबरन उठाकर ले गई, पहुंचाया अस्पताल, जानें क्यों

Nawab Ali, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 12:06 PM IST
  • गौरीगंज से सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह अपने क्षेत्र में सड़क की मांग को लेकर हजरतगंज में गांधी प्रतिमा के सामने आमरण अनशन पर बैठे थे. जिसके बाद शुक्रवार को तबियत खराब होने के बाद पुलिस ने देर रात जबरन उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया है. जहां पर उनका इलाज किया जा रहा है. 
सपा विधायक राकेश प्रताप को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया. फोटो फेसबुक राकेश प्रताप सिंह 

लखनऊ. हजरतगंज गांधी प्रतिमा के सामने आमरण अनशन पर बैठे गौरीगंज से सपा विधायक राकेश सिंह को पुलिस ने देर रात जबरन उठाकर अस्पताल में भर्ती कराया है. सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह अपने क्षेत्र में दो सड़कों को न बनवाये जाने के कारण नाराज थे जिस वजह से उन्होंने विधानसभा से इस्तीफा देते हुए हजरतगंज गांधी प्रतिमा के सामने अनशन पर बैठे थे. दो दिनों तक धरना देने के बाद राकेश प्रताप सिंह ने आमरण अनशन शुरू कर दिया था.

जिसके बाद शुक्रवार शाम को विधायक राजेश प्रताप सिंह की शाम को तबियत बिगड़ गई. पुलिस सपा विधायक को अनशन खत्म करने के लिए मान-मनव्वल करती रही लेकिन राकेश प्रताप अपनी जिद पर अड़े रहे और मांगों को पूरा होने तक अनशन पर बैठे रहने की बात कहते रहे. कई घंटों तक मनाने के बाद जब विधायक नहीं माने तो पुलिस ने रात करीब 1 बजे विधायक राकेश प्रताप सिंह को जबरन अनशन स्थल से उठाकर अस्पताल में भर्ती करा दिया. 

यूपी में BJP ज्वाइनिंग कमेटी का गठन, लक्ष्मीकांत बाजपेयी समेत ये दिग्गज शामिल

अस्पताल में भर्ती कराने के बाद विधायक ने अपना इलाज कराने से भी मना कर दिया. विधायक ने कहा है कि मैं अपने अनशन के पहले दिन से लोकतांत्रिक तरीके से अनशन पर था, ना मेरी ओर से ना मेरे समर्थकों की ओर से कोई ऐसा कृत किया गया जिससे सामाजिक संतुलन बिगड़े. शासन व प्रशासन द्वारा मुझे जबरन सिविल अस्पताल लाया गया और मेरे दोनो हाथ बांधकर जबरन ड्रिप लगाई गई. क्या अपनी जनता के लिए आवाज उठाना गुनाह है ? क्या हमारे लोकतंत्र में जनहित के लिए कोई जगह नहीं है ? मैं पूछता हूं इस सरकार से.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें