लखीमपुर खीरी हिंसा: डीएम के बाद एसपी विजय ढुल पर एक्शन, युवा IPS को मिला जिला

Atul Gupta, Last updated: Fri, 12th Nov 2021, 12:50 PM IST
  • लखीमपुर हिंसा (Lakhimpur violence) के 40 दिन बाद पुलिस महकमें में बड़ा फेरबदल हुआ है. लखीमपुर खीरी एसपी को हटा दिया गया है साथ ही तीन आईपीएस का भी ट्रांसफर किया गया है. एसपी विजय ढूल (Vijay Dhool) को हटाकर पुलिस मुख्यालय से अटैच किया गया है. सूत्रों के मुताबिक उनकी जगह लखनऊ कमिश्ररेट में तैनात 2014 बैच के IPS संजीव सुमन (Sanjeev Suman) को लखीमपुर खीरी का एसपी बनाया गया है.
विजय ढुल को हटाकर संजीव सुमन को बनाया गया नया लखीमपुर खीरी एसपी (फाइल फोटो)

लखनऊ: लखीमपुर हिंसा (Lakhimpur violence) के 41 दिन बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने कड़ा प्रशासनिक फैसला लेते हुए तीन आईपीएस के तबादले किए हैं. लखीमपुर खीरी एसपी विजय ढूल को हटाकर पुलिस मुख्यालय से अटैच किया गया है. सूत्रों के मुताबिक उनकी जगह लखनऊ कमिश्ररेट में तैनात IPS संजीव सुमन (Sanjeev Suman) को लखीमपुर खीरी का नया एसपी बनाया गया है. इससे पहले 28 अक्टूबर को लखीमपुर के डीएम अरविंद चौरसिया (Arvind Chaurasia) को हटा दिया गया था. उनकी जगह महेंद्र बहादुर सिंह को जिले की जिम्मेदारी दी गई थी. 3

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी में किसानों का एक समूह यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ तीन अक्टूबर को प्रदर्शन कर रहा था, तभी एक एसयूवी कार ने चार किसानों को कुचल दिया. इसके बाद गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी के 2 कार्यकर्ताओं और एक ड्राइवर की कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी, जबकि हिंसा में एक स्थानीय पत्रकार की भी मौत हो गई. किसानों का आरोप है कि प्रदर्शनकारी किसानों पर गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने गाड़ी चढ़ाई थी. इस मामले में अब तक केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष समेत 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

बता दें कि लखीमपुर खीरी कांड में बरामद किए गए असलहों की बैलिस्टिक रिपोर्ट लखनऊ फारेंसिक साइंस लैब (एफएसएल) ने एसआईटी को सौंपी. एसआईटी द्वारा भेजे गए चार में से तीन असलहों से गोली चलने की पुष्टि एफएसएल ने की. इसकी सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है. मामले में सुप्रीम कोर्ट हिंसा केस में जांच की प्रगति रिपोर्ट पर कड़ी नाराजगी जता चुका है. अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट 12 नवंबर को फिर सुनवाई करेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें