मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी के खास अभिनव सिंह को STF ने लखनऊ से किया अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 12/02/2021 12:23 AM IST
  • अभिनव सिंह के खिलाफ़ झारखंड के कई जिलों समेत उत्तर प्रदेश के अयोध्या और लखनऊ में कई मुकदमे दर्ज है. मुन्ना बजरंगी अभिनव को अपना उत्तराधिकारी बताता रहा है.
मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी के खास अभिनव सिंह को STF ने लखनऊ से किया अरेस्ट

 लखनऊ: उत्तर प्रदेश एसटीएफ ने मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी गिरोह के लिए वसूली और हत्या जैसे काम करने वाले अभिनव प्रताप सिंह उर्फ बड्डू को गुरुवार को चिनहट से गिरफ्तार कर लिया. अभिनव सिंह के खिलाफ़ झारखंड के कई जिलों समेत उत्तर प्रदेश के अयोध्या और लखनऊ में कई मुकदमे दर्ज है. मुन्ना बजरंगी अभिनव को अपना उत्तराधिकारी बताता रहा है. झारखंड के व्यापारियों और कोल कंपनियों के मालिकों से रंगदारी वसूलने और हत्या जैसे मामले का अभियुक्त रहा है. वहीं झारखंड के डीजीपी मुरारी लाल मीना ने अभिनव को पकड़ने के लिए 50 हजार का ईनाम भी घोषित कर रखा था.

एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश ने बताया कि आरोपी अभिनव सिंह मुख्य रूप से महाराजगंज थाना क्षेत्र का रहने वाला है. अभिनव सिंह की गिरफ्तारी झारखंड पुलिस के लिए लंबे समय से चुनौती बनी हुई थी. इस कारण डीजीपी मुरारी लाल मीना ने यूपी एसटीएफ से संपर्क किया था. एसटीएफ ने पहले रांची जेल से अभिनव के बारे में काफी जानकारियां जुटाई थी. एसटीएफ के जानकारी अनुसार अभिनव के गिरोह का सरगना अमन सिंह रांची जेल में है. 

200 साल का विश्वास और उच्च क्वालिटी की मिठास, अवध की नजाकत: राम आसरे स्वीट्स

अमन सिंह मूल रूप से अंबेडकर नगर का रहने वाला है. जिसने अपने साथी धर्मेंद्र सिंह उर्फ रिंकु के जरिए धनबाद के डिप्टी मेयर नीरज सिंह की हत्या करवाई थी. गिरोह के सरगना अमन सिंह के जेल जाने के बाद अभिनव ही गिरोह के सारे काले काम देख रहा था. अभिनव पहले भी 2014 में बैंक ऑफ बड़ौदा के कैश वैन लूटने के मामले में जेल जा चुका है. 

लखनऊ से गुजरने वाली 20 ट्रेनें होंगी कैंसिल, कुछ का रूट बदलेगा, देखें लिस्ट

अभिनव सिंह ने एसटीएफ के सामने खुलासा करते हुए बताया कि जेल में बंद अपराधी से मिलने वाले लोगों के मोबाइल से इंटरनेट कॉल कर जेल से ही व्यपारियों रंगदारी देने के लिए धमकाता था. खुलासे में पता चला कि ये पूरा गिरोह सिग्नल एप और व्हाट्सअप के जरिए आपस में जुड़ा रहता है. काफी कोर्ट में पेशी के वक्त तो कभी जेल में आने वाले परिचितों के मोबाइल का इस्तमाल कर जेल से भी गिरोह का काम करता रहता था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें