अवैध तरीके से असलहे खरीदने पर मुख्तार अंसारी के बेटे के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

Smart News Team, Last updated: 11/12/2020 11:06 PM IST
  • अवैध तरीके से असलहे खरीदने को लेकर बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी के खिलाफ एसटीएफ ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की. लखनऊ पुलिस ने अब्बास अंसारी के दिल्ली आवास से 6 असलहे और 4431 कारतूस बरामद किए.
एसटीएफ ने मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की.

लखनऊ. अवैध तरीके से असलहे खरीदने के मामले में बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी के खिलाफ एसटीएफ ने कोर्ट ने चार्जशीट दाखिल कर दी है. लखनऊ पुलिस ने अब्बास अंसारी के दिल्ली के आवास से 6 असलहे और अलग-अलग बोर के 4,431 कारतूस बरामद किए हैं. मुख्तार अंसारी के बेटे पर आरोप है कि उसने शूटिंग के बहाने नियम के खिलाफ कई असलहे और कारतूस खरीदे. 

पिछले साल तत्कालीन एसएसपी कलानिधि नैथानी के आदेश पर अब्बास अंसारी के खिलाफ महानगर कोतवाली में आर्म्स एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी. जिसके बाद डीजीपी ने एसटीएफ को इस मामले की विवेचना करने के निर्देश दिए थे. एसटीएफ की विवेचना में अब्बास के पास के देश-विदेश से खरीदे गए असलहा बरामदे हुए. जिसके बाद शुक्रवार को कोर्ट में अब्बास अंसारी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई.

पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट से जुड़ा नियम जान लें, नहीं तो देना पड़ेगा जुर्माना

इस मामले को लेकर कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट में एसटीएफ ने कोर्ट को पूरा ब्यौरा दे दिया है. कोर्ट में दाखिल हुई चार्जशीट में बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी पर आरोप है कि निशानेबाज की हैसियत से सात हथियार की जगह उन्होंने 8 हथियार खरीदे. अब्बास ने हथियार के लाइसेंस का पता बदलवा लिया लेकिन जिला प्रशासन को सूचना नहीं दी.

डॉक्टरों की हड़ताल से लखनऊ में 50 हजार मरीज बिना इलाज लौटे, 15 सौ ऑपरेशन टले

इसके अलावा मुख्तार अंसारी पर ओराप है कि अधिकृत बोर से ज्यादा बोर के असलहे और कारतूस खरीदे और गलत तरीके से हथियार में तकनीकी खराबी दिखाकर उसे बेचने की अनुमति ली. आरोप है कि अंसारी ने इंटरनेशनल शूटिंग स्पोर्टस फेडरेशन के द्वारा प्रतिबंधित कारतूस खरीदे, भारतीय राष्ट्रीय रायफल संघ के प्रमाण पत्र के बिना विदेशों से असलहे खरीदे. अब्बास पर ये भी आरोप है कि दिल्ली के अस्थायी पते को पिता मुख्तार अंसारी का स्थायी पता बताया जबकि वो 15 साल से जेल में बंद हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें