हाथरस गैंगरेप केस UP से दिल्ली ट्रांसफर करने की याचिका पर SC में सुनवाई आज

Smart News Team, Last updated: 06/10/2020 09:59 AM IST
  • हाथरस गैंगरेप केस से जुड़ी याचिका सुप्रीम कोर्ट में दर्ज की गई थी. इस याचिका में कहा गया है कि केस यूपी से दिल्ली ट्रांसफर किया जाए और केस की जांच जज की निगरानी में हो. सुप्रीम कोर्ट में आज इस याचिका पर सुनवाई होनी है.
हाथरस गैंगरेप केस UP से दिल्ली ट्रांसफर करने की याचिका पर SC में सुनवाई आज

लखनऊ. हाथरस गैंग रेप कांड की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई की जाएगी. याचिका में मांग की गई है कि केस की जांच सीबीआई या एसआईटी करे. इस याचिका में ये भी कहा गया है कि जांच की निगरानी सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के वर्तमान या रिटायर्ड जज करें और केस को यूपी से दिल्ली ट्रांसफर किया जाए. याचिका पर मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस एएस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यम की बेंच सुनवाई करेगी. यह याचिका दिल्ली निवासी सामाजिक कार्यकर्ता सत्यम दुबे और कुछ वकीलों ने दर्ज की है.  

याचिका के अनुसार यूपी में केस की जांच निष्पक्ष नहीं होगी. उन्होंने अब तक यूपी पुलिस और सरकार के तरीकों पर सवाल उठाते हुए ये याचिका दर्ज की है. यूपी सरकार मामला सीबीआई को सौंप चुकी है. इसी के बाद केस के ट्रायल को उत्तर प्रदेश से दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग की गई है.

दिल्ली से हाथरस जा रहे 4 संदिग्ध गिरफ्तार, PFI से है नाता, मोबाइल-लैपटॉप जब्त

गौरतलब हो कि मामले में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे राजा मानवेंद्र सिंह ने निर्भया केस में आरोपियों का केस लड़ने वाले एपी सिंह को हाथरस मामले के आरोपियों का वकील नियुक्त किया है. उसी केस में निर्भया की वकील रहीं सीमा कुशवाहा पीड़िता की ओर से केस लड़ेंगी. 

हाथरस केस के बाद रातों-रात बनी वेबसाइट्स पर एजेंसियों का शक, होगी जांच

बता दें कि हाथरस के एक गांव में 19 वर्षीय दलित लड़की से चार लड़कों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया. पीड़िता की कुछ दिनों बाद इलाज के दौरान दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई. पुलिस ने उसी रात में लड़की का आनन-फानन में अंतिम संस्कार कर दिया था. इस पर बवाल बढ़ गया. परिवार ने पुलिस पर लापरवाही के आरोपों के साथ आरोप लगाया कि अंतिम संस्कार के लिए परिजनों की अनुमति नहीं ली गई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें