मौर्य, सैनी समेत BJP छोड़ आए कई विधायक-नेता अखिलेश यादव की सपा में शामिल

Jayesh Jetawat, Last updated: Fri, 14th Jan 2022, 3:04 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी छोड़ने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी समेत अन्य कई विधायक और नेताओं ने शुक्रवार को लखनऊ में सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में समाजवादी पार्टी का दामन थामा.  
स्वामी प्रसाद मौर्य समेत बीजेपी छोड़कर आए अन्य नेताओं को अखिलेश यादव ने दिलाई सपा की सदस्यता

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी समेत उनके समर्थक विधायकों ने अखिलेश यादव की मौजूदगी में शुक्रवार को समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया. सपा में शामिल होने वालों में विधायक भगवती सागर, विनय शाक्य, रोशन लाल वर्मा, ब्रजेष कुमार प्रजापति का नाम है. इन्होंने हाल ही में बीजेपी से नाता तोड़ा था. इसके अलावा गुरुवार को एनडीए से अलग हुए अपना दल के एमएलए चौधरी अमर सिंह ने भी शुक्रवार को सपा ज्वाइन कर ली.

पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने लखनऊ में सभी को पार्टी की सदस्यता दिलाई. इस दौरान पूर्व मंत्री विद्रोही मौर्य, पूर्व बसपा विधायक नीरज कुशवाहा मौर्य, बलराम सैनी, पूर्व बीजेपी विधायक राजेंद्र प्रताप सिंह, पूर्व कांग्रेस विधायक बंशी सिंह पहाड़िया, पूर्व बीजेपी एमएलसी हरपाल सैनी और पूर्व मुख्य सुरक्षा अधिकारी पदम सिंह ने भी सपा ज्वाइन की.

BSP के निलंबित विधायक रामवीर उपाध्याय ने पार्टी छोड़ी, BJP में हो सकते है शामिल

सपा में आने के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि आज बीजेपी के खात्मे का शंखनाद बज गया है. बीजेपी ने देश और प्रदेश की जनता को गुमराह कर लोगों की की आंखों में धूल झोंकी है और उनका शोषण किया है. अब उत्तर प्रदेश को बीजेपी के शोषण से मुक्त कराना है.

2024 में अखिलेश को बनाएंगे प्रधानमंत्री- सैनी

धर्म सिंह सैनी ने कहा कि पिछले 5 सालों में पिछड़ों, दलितों का राजनीतिक, आर्थिक, रोजगार और आरक्षण के क्षेत्र में पूरी तरह से शोषण हुआ. इसे देखते हुए हम पिछड़े और ​दलित वर्ग के लोग मकर संक्रांति के समय समाजवादी पार्टी में शामिल हो रहे हैं. उन्होंने मंच से कहा कि जो भाईचारा अखिलेश यादव में है, वो दुनिया के किसी नेता में नहीं है. हम मार्च 2022 में अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाएंगे और 2024 में उन्हें प्रधानमंत्री की शपथ दिलवाएंगे.

कांग्रेस के सीट बंटवारे पर उठने लगे सवाल, टिकट कटने के बाद धरने बैठी महिला नेता शीला मिश्रा

वहीं, अखिलेश यादव ने कहा, "मुझे लगता है कि सरकार के लोगों को पहले ही पता लग गया था कि स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी के साथ बड़ी संख्या में लोग आ रहे होंगे. इसलिए हमारे मुख्यमंत्री पहले ही गोरखपुर चले गए. हालांकि उनकी 11 मार्च की किसी ने टिकट बुक कर रखी है. 10 मार्च को चुनावी नतीजे आएंगे और योगी 11 मार्च को घर वापसी करेंगे."

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें