लंबे समय तक बदहजमी समझकर न करें नजरअंदाज, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Jul 2021, 11:52 AM IST
  • पीजीआई के पेट रोग विभाग के एक शोध में पेट की गंभीर बीमारी गेस्ट्रोपेरोसिस का खुलासा हुआ है. इस बीमारी के लक्षण बदहजमी के समान ही होते है. इसलिए डॉक्टर इसका इलाज बदहजमी समझकर करते है.
बदहजमी और पेट की गंभीर बीमारी गेस्ट्रोपेरोसिस के लक्षण एक समान (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लखनऊ. यदि आपको लंबे समय से पेट दर्द, खाना खाते ही उल्टी आना, जी मिचलाना, पेट भरा हुआ लगना व पेट में सूजन जैसी समस्याएं है, तो ये लक्षण बदहजमी के नहीं बल्कि पेट की गंभीर बीमारी गेस्ट्रोपेरोसिस के है. इसे बदहजमी समझकर नजर अंदाज न करें और डॉक्टर से उचित इलाज लें. इस बीमारी का खुलासा पीजीआई में शोध संस्थान के वरिष्ठ पेट रोग विशेषज्ञ डॉ. उदय सी. घोषाल ने शोध में किया है. इस बीमारी के कुछ लक्षण समान होने के कारण इसे बदहजमी समझकर डॉक्टर इलाज कर रहे है.

डॉ. घोषाल ने बताया कि यह शोध ओपीडी में आए 35 से 60 साल के मरीजों पर किया गया. जिसमें डायबिटीज और बिना डायबिटीज के मरीज शामिल थे. इन मरीजों के पुराने पर्चों से पता चला कि इनका इलाज बदहजमी का चल रहा था. जबकि जांच में इनमें गेस्ट्रोपेरोसिस बीमारी की पुष्टि हुई. इस शोध के दौरान बताया गया कि पीजीआई, केजीएमयू और लोहिया समेत प्रदेश के बड़े संस्थानों में डॉक्टरों को जिले के डॉक्टरों को पेट व अन्य गंभीर बीमारियों के प्रति जागरुक करने की जरुरत है.

हाईकोर्ट लखनऊ बेंच का आदेश- जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव निष्पक्ष तरीके से कराएं चुनाव आयोग

इस बीमारी के बारे में जानकारी देते हुए डॉ. घोषाल ने बताया कि गेस्ट्रोपेरोसिस में पेट के जिस हिस्से में भोजन एकत्र होता है. वहाँ की नसें एवं मासंपेशियां कमजोर हो जाती है. जिससे पेट की कार्यक्षमता धीमी हो जाती है और भोजन पेट से छोटी आंत में नहीं जाता है. उन्होंने बताया कि इस बीमारी की पहचान होने पर दवाओं से इसका इलाज संभव है. इसकी पहचान गैस्ट्रिक इम्पटिंग जांच और इंट्रो ड्यूडनल मैनोमैट्री की जांच से हो सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें