प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर के जरिए ई-टिकट निकालने का गोरखधंधा जारी

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 11:52 AM IST
  • आरपीएफ की टीम ने टिकट माफिया आफताब अंसारी की तलाश में उससे जुड़े एक टिकट ब्लैकमेलर का सुराग मिलने पर गाजीपुर सादात में छामेपारी की.
फाइल फोटो.

गाजीपुर: पुलिस का लाख कोशिशों के बाद भी जिले गाजीपुर समेत पूर्वांचल के कई जिलों में प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर के जरिए ई-टिकट निकालने का धंधा जारी है. आरपीएफ की टीम ने टिकट माफिया आफताब अंसारी की तलाश में उससे जुड़े एक टिकट ब्लैकमेलर का सुराग मिलने पर गाजीपुर सादात में छामेपारी की.

बता दें कि जांच में पता चला है कि एक व्हाट्सएफ ग्रुप के जरिए टिकटों की कालाबाजारी को अंजाम दिया जा रहा है. ग्रुप संचालक अरुण कुमार कुशवाहा की तलाश में दबिश दी गई. लेकिन वह मौके से फरार हो गया. वहीं उसके सहयोगी गौतम वर्मा को एक साइबर कैफे पर छापा मारकर गिरफ्तार कर लिया गया.

फर्जी अपर महाधिवक्ता बनकर DM को दिखाया रौब, अब गिरफ्तारी की बारी

गिरफ्तार किए गए गौतम वर्मा के पास से IRCTC के पर्सनल यूजर ID पर बनाए गए कुल 27 अदद सामान्य व तत्काल रेल आरक्षित ई-टिकट बरामद किए गए. इन टिकटों की कुल कीमत 63,967 रुपए बताई जा रही है. युवक के पास से 10,900 रुपए और एक मोबाइल भी बरामद हुआ है.

लखनऊ सर्राफा बाजार में गिरावट के साथ खुले सोना चांदी के दाम, आज का मंडी भाव

प्रभारी निरीक्षक भारी निरीक्षक एनके मीणा ने बताया कि अभियुक्त से सुपर तत्काल और ओसियन एक्सटेंशन साफ्टवेयर के अलावा मॉनिटर, सीपीयू, की-बोर्ड, एक लैपटॉप, जब्त किया गया. वह टिकट किराये के अतिरिक्त 300 से 500 रुपये अधिक लेकर बेच रहा था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें