लखनऊ से नेपाल को जोड़ने वाला हाईवे छह लेन होगा, केंद्र ने दी मंजूरी

Smart News Team, Last updated: Sat, 2nd Jan 2021, 12:58 PM IST
  • जरवल से रुपईडीहा नेपाल बार्डर की दूरी लगभग 110 किलोमीटर है। पहले यह हाईवे फोरलेन प्रस्तावित था, लेकिन चीन और नेपाल की नजदीकी और देश की सुरक्षा को देखते हुए इस मार्ग को अब सिक्स लेन किया जाएगा। केंद्र सरकार ने इसकी मंजूरी देते हुए तत्काल भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू करने को कहा है।
नेपाल बॉर्डर

लखनऊ :  राजधानी से नेपाल को सीधे जोड़ने वाला हाईवे सिक्स लेन किया जाएगा। अभी यह हाईवे टू-लेन है। केंद्र सरकार ने इसको सिक्स लेन करने की मंजूरी दे दी है। यह हाईवे बहराइच में बनाया जाना है। इसकी पुष्टि बहराइच के सिटी मैजिस्ट्रेट अनिल कुमार सिंह ने की है।

जरवल से रुपईडीहा नेपाल बार्डर की दूरी लगभग 110 किलोमीटर है। यह मार्ग टू-लेन है। इसके फोरलेन का प्रस्ताव पास हो गया था। लेकिन अचानक चीन और नेपाल की नजदीकी बढ़ने और देश की सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए केंद्र सरकार ने इस हाईवे को सिक्स लेने करने का फैसला किया है। ताकि जरूरत पर आवश्यक मदद आसानी से नेपाल बॉर्डर तक पहुंचाई जा सके।

कानपुर : बिकरू में लोकतंत्र का उदय, पंचायत चुनाव के लिए सामने आने लगे चेहरे

नेशनल हाईवे अथारिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआइ) की ओर से हाईवे निर्माण के संशोधित मसौदे को अंतिम रूप दे दिया गया है।  सड़क निर्माण पर लगभग तीन अरब रुपये का बजट प्रस्तावित है। हाईवे चौड़ीकरण के लिए 150 ग्राम पंचायतों की जमीन अधिग्रहीत की जाएगी। जमीन का मालिकाना हक रखने वाले ग्रामीणों को स्थानीय स्तर पर तय दर के हिसाब से मुआवजा दिया जाएगा। इसके लिए प्रशासन स्तर पर मुआवजे के लिए बजट का प्रस्ताव तैयार किया गया है, ताकि अधिग्रहण के साथ मुआवजे की रकम का तत्काल भुगतान किया जा सके। अधिग्रहण का बजट मंजूर होने के बाद हाईवे चौड़ीकरण की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी। हाईवे का निर्माण एनएचएआइ कराएगी।

बहराइच के सिटी मैजिस्ट्रेट अनिल कुमार सिंह ने बताया कि जरवल से रुपईडीहा नेपाल बार्डर तक मार्ग को सिक्स लेन किया जाएगा। केंद्र सरकार ने इस बाबत प्रक्रिया शुरू कर दी है। उम्मीद है कि नए वर्ष में यह सपना साकार होगा।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें