यूपी में दहशत फैलाने वाले दो आतंकियों के खिलाफ NIA ने दाखिल की चार्जशीट

Smart News Team, Last updated: Sat, 29th May 2021, 6:01 PM IST
  • NIA द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि सेक्शन 18, 19, 20 और 120B के तहत हिज़बुल के दोनों आंतकियों पर फाइल किया गया है. एक आरोपी का नाम निसार अहमद शेख है जिसकी उम्र 52 साल है. जबकि दूसरे आरोपी का नाम निशाद अहमद बट है और उसकी उम्र 42 साल है.
NIA के स्पेशल कोर्ट में हिज़बुल के 2 आंतकियों के खिलाफ सप्लीमेंटरी चार्जशीट फाइल गया है.

लखनऊ- शनिवार को NIA ने 2 आंतकियों के खिलाफ सप्लीमेंटरी चार्जशीट फाइल किया है. यह चार्जशीट NIA के स्पेशल कोर्ट में फाइल किया गया है. दोनों आंतकियों पर हिज़बुल मुजाहिद्दीन का सदस्य होने का आरोप है. NIA के मुताबिक, हिज़बुल मुजाहिद्दीन के दोनों आंतकी उत्तर प्रदेश समेत देश के कई हिस्सों में आतंकी गतिविधि में शामिल रहे हैं.

NIA द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि सेक्शन 18, 19, 20 और 120B के तहत हिज़बुल के दोनों आंतकियों पर चार्जशीट जारी किया गया है. एक आरोपी का नाम निसार अहमद शेख है जिसकी उम्र 52 साल है. जबकि दूसरे आरोपी का नाम निशाद अहमद बट है और उसकी उम्र 42 साल है. NIA के मुताबिक, यह केस 12 सितंबर 2018 को उत्तर प्रदेश पुलिस के एंटी टेरर स्क्वॉड ने सेक्शन 13, 20 और 38 के तहत दर्ज किया था. जिसमें दोनों आंतकियों के आंतकी गतिधिवियों में शामिल होने की बात कही गई थी. इसके अलावा हिज़बुल के दोनों आतंकियों ने यूपी के कई हिस्सों में आंतकी समानों को पहुंचाया.

लखनऊ: कोरोना की तीसरी लहर के लिए CBSE तैयार करेगा यंग वॉरियर, जानें डिटेल्स

इसके बाद 24 सितंबर 2018 को NIA ने फिर से केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की. NIA ने इससे पहले 2 अन्य आरोपी कमरूज जमां और ओसामा बिन जावेद के खिलाफ 11 मार्च 2019 को चार्जशीट दायर किया था. बता दें कि 28 सिंतबर 2019 को सुरक्षाबलों के साथ एनकाउंटर में आतंकी ओसामा बिन जावेद मारा गया था. NIA के मुताबिक, आतंकी निसार अहमद शेख पर आरोप है कि उसने मारे गए आतंकी ओसामा बिन जावेद के लिए ट्रांसपोर्ट का बंदोबस्त किया था और अन्य तरीकों से उसकी मदद की थी. इस घटना के बाद आतंकी निसार अहमद शेख लगातार पुलिस को चकमा दे रहा था. NIA के अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल आगे की जांच प्रक्रिया चल रही है.

रिश्ता शर्मसार! बेटे ने पीटकर की मां की हत्या, शव फेंक भागा बहन के घर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें