लखनऊ पुलिस की नाक के नीचे से चोरों ने उड़ाए करोड़ों के आभूषण, UP STF करेगी जांच

Smart News Team, Last updated: Sat, 27th Feb 2021, 11:08 AM IST
  • राजधानी लखनऊ के नामचीन लाला जुगल किशोर ज्वैलर्स एंड बैंकर्स फर्म के शोरूम में भीषण चोरी हुई. छत के रास्ते घुसे चोरों ने गैस कटर की मदद से तीन से ज्यादा दरवाजों को काट कर घटना को अंजाम दिया. चोरों ने गैस कटर से अलमारी और लॉकर काटकर कीमती हीरे, जेवरात और नकदी चोरी कर ले गए
घर में बुजुर्ग को बंद कर चोरों ने उड़ाया लाखों समाना, वाराणसी पुलिस ने चोरी से किया इंकार

लखनऊ: गुरुवार की रात कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर स्थित राजधानी लखनऊ के नामचीन लाला जुगल किशोर ज्वैलर्स एंड बैंकर्स फर्म के शोरूम में भीषण चोरी हुई. छत के रास्ते घुसे चोरों ने गैस कटर की मदद से तीन से ज्यादा दरवाजों को काट कर घटना को अंजाम दिया. चोरों ने गैस कटर से अलमारी और लॉकर काटकर कीमती हीरे, जेवरात और नकदी चोरी कर ले गए. बताया जा रहा है कि चोरों ने करोड़ों रुपये की कीमत के जेवरात पर हाथ साफ किया हैं. खास बात ये है की चोरी की रात दुकान का सीसीटीवी कैमरा भी काम नहीं कर रहा था. 

फर्म के मालिक अरविंद रस्तोगी उर्फ गुड्डू ने बताया कि चोर गुरुवार रात पड़ोस स्थित इमारत के रास्ते फर्म की छत पर पहुंचे. इसके बाद गैस कटर से छत का दरवाजा काटकर भीतर दाखिल हुए. लाला जुगल किशोर ज्वैलर्स एंड बैंकर्स फर्म के मालिक अरविंद रस्तोगी के मुताबिक, बुधवार रात वह ज्वैलर्स की शोरूम बंद घर चले गए थे और साथ ही उन्होंने शोरूम का सीसीटीवी भी बंद कर दिया था, उन्होंने बताया की गुरुवार को शोरूम बंद रहता है. तो मुझे डर था की कहीं शॉर्ट सर्किट से कोई घटन न हो जाए इसलिए मैने बिजली का सारा कनेक्शन बंद कर दिया जिससे सीसीटीवी भी बंद था.

पंचायत चुनाव को लेकर BJP की रणनीति, योगी सरकार की उपलब्धियां लेकर जाएंगे गांव-गांव

गुरुवार को साप्ताहिक बंदी के कारण वह शुक्रवार सुबह शोरूम पहुंचे. ताला खोला और फिर यह सब देखकर सकते में आ गए. शोरूम के भीतर सब कुछ चारों ओर बिखरा पड़ा था. चांदी के सिक्के और कुछ जले हुए नोट भी बिखरे थे. लॉकर टूटी पड़ी थी. अलमारियों में रखी ज्वैलरी गायब थी. लॉकर से भी हीरे, सोने के गहने तथा नकदी गायब थे.

हिंदी संस्थान के वार्षिक पुरस्कार घोषित, लखनऊ के दयानंद पांडे को लोहिया साहित्य

एसटीएफ करेगी वारदात का राजफाश

अमीनाबाद कोतवाली से चंदकदम पर पुलिस को इस घटना की भनक तक नहीं हुई. घटना की जानकारी होने पर पुलिस कमिश्नरेट के अधिकारी हरकत में आए. एडीसीपी व डीसीपी पश्चिम ने मैके पर जाकर छानबीन की. इस दौरान मीडियाकर्मियों को फर्म के भीतर जाने की अनुमति नहीं दी गई. पुलिस आयुक्त डीके ठाकुर भी बाद में घटनास्थल पर पहुंचे और जानकारी ली. वारदात के पर्दाफाश के लिए एसटीएफ लगा दी गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें