CM कार्यालय से नहीं उठाए इन अधिकारियों ने फोन, 25 DM व 4 कमिश्नर से जबाव की मांग

Smart News Team, Last updated: Tue, 16th Mar 2021, 10:13 AM IST
  • शनिवार को अधिकारियों की टीम ने मुख्यमंत्री के अपर सचिव एसपी गोयल के निर्देश पर कुछ जिलों के डीएम, कमिश्नर, एसपी-डीएस के सीयूजी नंबर पर कॉल किया था. लेकिन बहुत से अधिकारियों ने इस कॉल को नहीं उठाया. जिसके बाद शासन ने 25 डीएम एवं 4 कमिश्नर से तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा है.
मुख्यमंत्री कार्यालय का फोन न उठाने पर 25 डीएम व 4 कमिश्नर से मांगा गया स्पष्टीकरण

लखनऊ. शासन ने 25 डीएम एवं 4 कमिश्नर से मुख्यमंत्री कार्यालय का फोन न उठाने पर तीन दिन में स्पष्टीकरण देने को कहा है. इसके साथ ही प्रयागराज, वाराणसी, अयोद्धा एवं बरेली से भी जबावदेही की मांग की गयी है. इस संबंध में सीएम आदित्यनाथ योगी की ओर से तमाम निर्देश मिलने के बावजूद अधिकारियों ने फोन उठाने के मामले में बेपरवाही दिखाई है. आगरा मंडल की बात करें तो इसके किसी भी जिले के एसपी-एसएसपी ने फोन नहीं उठाया. कुछ ऐसा ही हाल प्रयागराज, अलीगढ़, कानुपर नगर, रायबरेली, कन्नौज, औरैया, कुशीनगर एवं जालौन में भी देखने को मिला. इन सभी जिलाधिकारियों के पास नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग ने इस संबंध में नोटिस दिया है.

दरअसल बीते शनिवार को अधिकारियों की एक टीम ने रैंडम आधार पर कुछ जिलों के डीएम, कमिश्नर, एसपी-एसएसपी के सीयूजी नंबर पर फोन किया था. अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एसपी गोयल के निर्देश पर ये कॉल किए थे. जिसे कुछ अधिकारियों ने उठाया, तो कुछ ने इसे नहीं उठाया. वहीं कुछ अधिकारियों की तरफ से कॉल बैक किया गया. इसके अलावा कुछ के पीआरओ की तरफ से फोन उठाया गया. जिसके बाद विभाग ने संबंधित अधिकारियों के पास स्पष्टीकरण देने के लिए नोटिस भेजा है. जिनके पास नोटिस गया है, उन्हें तीन दिन में शासन को जबाव देना होगा.

यूपी की बेटियों का कमाल, राष्ट्रीय चैंपियनशिप में बिहार जैसी मजबूत टीम को दी मात

शनिवार की शाम को इस संबंध में आयी रिपोर्ट के आधार पर जिन जिलाधिकारियों ने फोन नहीं उठाया. उनमें गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बदायूं, अलीगढ़, कन्नौज, संतकबीर नगर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, फिरोजाबाद, हापुड़, अमरोहा, पीलीभीत, बलरामपुर, गौंडा, जालौन, कुशीनगर, औरैया, कानपुर देहात, कानपुर, झांसी, मऊ व आजमगढ़ शामिल है. इन जिलों के डीएम से पूछा गया है कि आपने सीयूजी कॉल क्यों नहीं उठाये. जिसके जबाव के लिए इन्हें तीन दिन का समय दिया गया है.

UP के इस रेलवे स्टेशन पर लंगूर की आवाज में बंदरों को भगाने के लिए इंसान को नौकरी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें