लखनऊ में 8 नवंबर तक धारा 144 लागू, नियम तोड़ने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 10:26 AM IST
लखनऊ में 8 नवंबर तक धारा 144 लागू रहेगी. त्योहारों और परीक्षाओं के मद्देनजर प्रशासन ने ये फैसला लिया गया है. एक स्थान पर नहीं एकत्र हो पाएंगे कई लोग. बिना अनुमति रैली या धरने प्रदर्शन की नहीं होगी इजाजत.
धारा 144 लागू होने के बाद हजरतगंज का दृश्य (फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के लखनऊ जिले में त्योहारों और परीक्षाओं को मद्देनजर रखते हुए 8 नवंबर तक धारा 144 लागू कर दी गई है. इधर शहर में कई परीक्षाएं है जिसके चलते 8 नवंबर तक धारा 144 लागू कर दी है. जो अगले आदेश तक जारी रहेगी. धारा 144 लागू होने बाद रैली व धरना प्रदर्शन पर पाबंदी रहेगी.

अक्टूबर से लेकर 8 नवंबर तक कई त्योहार हैं. नवरात्र, दशहरा, बारा वफात, दीपावली, भाई दूज आदि जिसके मद्देनजर जिला प्रशासन ने 8 नवंबर तक धारा 144 लागू कर दी है. धारा 144 लागू होने के बाद किसी भी जगह बिना अनुमति के भीड़ एकत्र करने में पाबंदी रहेगी. नियम का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. शहर में किसी भी रैली या धरना प्रदर्शन की इजाजत नहीं होगी. साथ ही कोई ऐसी सामग्री छापता है जिससे तनाव पैदा हो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

प्रियंका गांधी बोलीं- 144 लखीमपुर खीरी में, गिरफ्तारी सीतापुर में, वकील से मिलने नहीं दिया जा रहा

नियम के उल्लंघन पर होगी कड़ी कार्रवाई:

यदि कोई व्यक्ति पुलिस, नगर निगम कर्मचारी, स्वास्थ विभाग, सफाईकर्मी या अन्य से मारपीट य अभद्रता करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. पुलिस द्वारा शहर की निगरानी के लिए लगाए गए कैमरे, ड्रोन, बैरियर, पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम आदि से छेड़छाड़ करता है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी.

सोशल मीडिया पर रहेगी नजर:

शहर में धारा 144 लागू के बाद यदि कोई सोशल मीडिया, इलेक्टॉनिक मीडिया या मौखिक व लिखित सामग्री से शहर का महौल खराब करने की कोशिश करता है या अफवाह फैलाने की कोशिश करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. व्हाट्सअप पर यदि कोई व्यक्ति अफवाह फैलाने वाले मैसेज भेजता है तो ग्रुप एडमिन उसे तत्काल डिलीट करके पुलिस को सूचना देगा. भड़काऊ व अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. इंटरनेट कैफे वालों को भी हिदायत दी है कि इस दौरान किसी संदिग्ध को इंटरनेट का इस्तेमाल न करने दें और सभी दिशानिर्देशों का पालन करें.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें