लखनऊ: भूसा रखने के विवाद पर दो भाइयों का खूनी संघर्ष, एक महिला की मौत

Smart News Team, Last updated: 05/05/2021 12:34 AM IST
  • बीकेटी के कठवारा गांव में भूसा रखने को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया. दोनों भाइयों के आपस के विवाद में मां के बीच बचाव में आने से डण्डा लगने से मौत हो गई. जिसके बाद डर से बेटे रमेश ने खेत में जाकर फांसी लगा ली. पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है. कुछ लोगों का कहना है कि चुनाव के जश्न के कारण झगड़ा हुआ था.
लखनऊ: भूसा रखने के विवाद पर दो भाइयों के खूनी संघर्ष, एक महिला की मौत

लखनऊ. कठवारा गांव में भूसा रखने के विवाद में दो भाईयों के परिवार में सोमवार रात खूनी संघर्ष हो गया. इस दौरान दोनों भाइयों के बीच बचाव में आई 62 वर्षीय मां फूलमती सिर पर डण्डा लगने से घायल हो गई. आनन-फानन में जब उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने ले जाया गया, तो खून बह जाने के कारण डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. यह खबर सुनते ही उनके बेटे ने बाग में पेड़ से लटक कर फांसी लगा ली. पुलिस ने पीड़ित पक्ष की ओर से एफआईआर दर्ज कर के छानबीन शुरू कर दी है.

सीओ बीकेटी हदयेश कठेरिया ने बताया कि कुंवारे के सगे भाई मोहनलाल से भूसा रखने को लेकर कई दिनों से विवाद चल रहा था. सोमवार दोनों के बीच विवाद बढ़ जाने के कारण बेटे रमेश ने दूसरे पक्ष पर लाठियों से हमला बोल दिया. इस दौरान बात इतनी बढ़ गई कि लोग इकट्ठा हो गये और बीच बचाव करने के लिए फूलमती को आना पड़ा. झगड़े में अचानक फूलमती के सिर पर एक डण्डा लग गया. जिससे उनके सर से खून निकलने लगा और वह मौके पर ही गिर गईं. अस्पताल में इलाज के दौरान खून निकलने की वजह से डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

Ramadan 2021: यूपी के प्रमुख 10 शहरों में 5 मई सेहरी खत्म का टाइम टेबल

वहीं मां फूलमती की मौत की खबर सुनकर रमेश घबरा गया और मौके से निकल कर गायब हो गया. जब अगले दिन सुबह गांव के लोग खेतों में पहुंचे तो वहां पर रमेश का शव पेड़ से लटकता हुआ देखा. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. बताया गया कि रमेश मानसिक रूप से विक्षिप्त था. वहीं ग्रामीणों में चर्चा है कि रमेश के ही डण्डे से फूलमती को चोट आई थी. जिसके कारण ग्लानि में ये कदम उसने उठाया. वहीं कुछ लोगों के अनुसार चुनाव के जश्न के कारण यह झगड़ा हुआ. लेकिन इस बात को लेकर सीओ हदयेश का कहना है कि यह सिर्फ एक अफवाह है. पुलिस क्राइम के अन्य पहलुओं पर भी जांच कर रही है.

वितरण का पहला चरण: कल से अन्त्योदय और पात्र गृहस्थी लाभार्थी को मुफ्त राशन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें