नई गाइडलाइन: कोरोना के मामूली लक्षण हैं तो होम आइसोलेशन में ऐसे करें अपना इलाज

Smart News Team, Last updated: Thu, 29th Apr 2021, 7:52 PM IST
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीजों के होम आइसोलेशन में इलाज को लेकर नई गााइडलाइन जारी की है. 
नई गाइडलाइन: कोरोना के मामूली लक्षण हैं तो होम आइसोलेशन में ऐसे करें अपना इलाज

लखनऊ. देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड 19 के कम लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेशन के लिए नई गाइडलाइन जारी की है. साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सलाह दी गई है कि ऐसे मरीज रेमडेसिविर इंजेक्शन को ना खरीदें और ना ही लगवाएं. मंत्रालय की ओर से कहा गया कि इस दवा का इस्तेमाल सिर्फ अस्पताल में उपचार के दौरान ही किया जाए.

स्वास्थ्य मंत्रालय की संशोधित नई गाइडलाइन में कहा गया कि अगर मरीज को मामलू सिम्टम हैं जो अगले सात दिन तक बने हैं तो वे लोग डॉक्टर की सलाह पर कम डोज का ओरल स्टेरॉयड लें. वहीं 60 साल से अधिक उम्र वाले और शुगर, ह्रदय रोग, फेफड़ों से संबंधित बीमारियों से जूझ रहे लोगों को डॉक्टर से विमर्श करने के बाद ही होम आइसोलेशन में रहना चाहिए.

CM योगी की बैठक, कहा- यूपी में दवा और ऑक्सीजन की कालाबाजारी हुई तो...

अगर मरीज के ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल में कमी या सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से संपंर्क करके अस्पताल में भर्ती हो जाना चाहिए. वहीं अगर मरीज को बुखार है जो दिन में चार बार पैरासीटामोल 650 एमजी लेने के बाद भी नहीं उतर रहा है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. चिकित्सक की ओर से ऐसे मरीजों को दूसरी दवाएं जैसे दिन में दो बार नैप्रोक्सेन 250 एमजी लेने की सलाह दी जा सकती है.

वहीं मामलू लक्षण वाले मरीजों को खाली पेट आइवरमैक्टीन 200 एमजी प्रति किलोग्राम दिया जा सकता है. अगर लक्षण पांच दिन बाद भी बने हैं तो उन्हें इनहेलेशन बडसोनाइड दिया जा सकता है.

बिहार: कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, 1 दिन में 13000 पॉजिटिव, पटना की हालत खराब

होम आइसोलेशन में ना करें रेमडेसिविर का इस्तेमाल

नई गाइलाइन के अनुसार, कोरोना मरीज को रेमडेसिविर इंजेक्शन या अन्य जांच थेरेपी डॉक्टर की सलाह पर सिर्फ अस्पताल में ही दी जानी चाहिए. घर पर इसे बिना सलाह के इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. मामूली लक्षणों में ओरल स्टेरॉड्स नहीं दिया जाता है. वहीं कम लक्षण वाले रोगियों को सांस लेने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए और उनका ऑक्सीजव लेवल 94 प्रतिशत से अधिक होना चाहिए. अगर नहीं है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें