लखीमपुर कांड पर सवाल पूछने से भड़के केंद्रीय गृह राज्य मंत्री टेनी, कहा- दिमाग खराब है क्या बे?

Atul Gupta, Last updated: Wed, 15th Dec 2021, 4:27 PM IST
  • लखीमपुर खीरी कांड की एसआईटी जांच में बेटे आशीष टेनी पर लगी नई धाराओं को लेकर सवाल पूछने पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनी भड़क गए और पत्रकारों से बदसलूकी की. उन्होंने पत्रकारों को धक्का देते हुए कहा दिमाग खराब है क्या बे.. इसके अलावा उन्होंने पत्रकारों को काफी भला-बुरा भी कहा.
पत्रकारों पर भड़के केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनी (फोटो- सोशल मीडिया)

लखनऊ: लखीमपुर खीरी कांड में बेटे आशीष मिश्रा पर हत्या का केस दर्ज होने के बाद पत्रकारों के सवाल से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनी बौखला गए और उनके साथ बदतमीजी की. टेनी ने पत्रकारों को धक्का देते हुए कहा कि बेवकूफी के सवाल मत किया करो. दिमाग खराब है क्या बे.. यही नहीं, उन्होंने वहां मौजूद दूसरे पत्रकार का मोबाइल भी बंद करा दिया. इसके बाद पत्रकारों को धमकाते हुए टेनी ने कहा कि $@$% तुम मीडिया वालों ने ही एक निर्दोष आदमी को बंद कराया है, शर्म नहीं आती है... इतने गंदे लोग हैं. उन्होंने पत्रकारों को धमाकाते हुए कहा कि क्या जानना चाहते हो, जाकर एसआईटी से पूछो.

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी कांड की जांच कर रही एसआईटी टीम ने कोर्ट में कहा कि चार किसान और पत्रकार की हत्या सोची-समझी साजिश के तहत की गई थी. कोर्ट ने भी सभी 13 आरोपियों के खिलाफ हत्या, गैर इरादतन हत्या, लापरवाही से गाड़ी चलाने की धाराएं हटाकर हत्या का प्रयास और लाइसेंसी हथियारों के दुरुपयोग की धाराएं लगाने की मंजूरी दे दी है.

इसके साथ ही जेल में बंद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय टेनी के बेटे आशीष मिश्रा समेत सभी आरोपियों पर साजिश के तहत हत्या और हत्या की कोशिश की धारा में वारंट बना दिया गया है. सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश नई धाराओं में वारंट जारी कर जेल भेज दिया गया है. एसआईटी ने इस मामले में पहले लगी धारा 279 (लापरवाही से तेज गाड़ी चलाने की धारा), 338 (गंभीर चोट पहुंचाने की धारा), (304A) गैर इरादतन हत्या की धारा को खारिज करते हुए 307 (हत्या का प्रयास), 326 (हथियारों से हमला करने की धारा), 34 (योजना बनाकर हमला करने की धारा) और लाइसेंसी बंदूक के दुरुपयोग की धारा 3/25/30 आर्म्स एक्ट को शामिल करने के लिए कोर्ट में अर्जी दी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें