अंधविश्वास ने ली मासूम की जान, भूत उतारने के नाम पर तांत्रिक ने की जूतों से पिटाई

Haimendra Singh, Last updated: Sun, 17th Oct 2021, 12:14 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में तांत्रिक ने भूत उतारने के नाम पर 4 साल के मासूम बच्चे की जान ले ली. तंत्र मंत्र विद्या के दौरान तांत्रिक ने मासूम बच्चों को जूतों से भी पीटा था. पुलिस ने दो महिला को गिरफ्तार कर लिया है जबकि तांत्रिक मौके से फरार है.
यूपी के कुशीनगर में भूत उतारने के नाम तांत्रिक ने ली मासूम की जान.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ. यूपी के कुशीनगर में अंधविश्वास का एक मामला सामने आया है जहां तांत्रिक की तंत्र-मंत्र विद्या के चक्कर में 4 साल की मासूम बच्चे की जान चली गई. जानकारी के अनुसार, बीमार चल रहे बच्चों के तांत्रिक ने भूत उतारने के नाम पर जूतों से मारा, साथ ही तांत्रिक ने मासूम बच्चे के मुंह में जूता तक घुसा दिया. बच्चे की मौत के बाद गांव वालों ने पुलिस को सूचना दी, पुलिस के आने की सूचना मिलते ही तांत्रिक मौके से फरार हो गया है. वहीं पुलिस दो महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है. पीड़ित परिवार पर उस समय मुसिबत का पहाड़ टूट गया, जब इलाज के अभाव में उनकी बेटी की भी मौत हो गई.

कुशीनगर के पडरौना कोतवाली के जरार गांव के निवासी ओम प्रकाश राजभर के 4 साल के मासूम बेटे नीतीश के कई दिनों से बुखार और उल्टी की दिक्कत हो रही थी. काफी डॉक्टरों को दिखाने के बाद भी नीतीश की हालत में कोई सुधार नहीं आया. जिसके बाद गांव की रहने वाली एक महिला ने तंत्र-मंत्र से बच्चों को ठीक करने की बात कही,  महिला ने एक तांत्रिक दंपति को बुलाया और झाड़-फूंक कराना शुरू कर दिया. इसी दौरान बच्चों की हालत और बिगड़ने लगी. मौके पर मौजूद लोगों के अनुसार, तांत्रिक ने इलाज करने के नाम पर बच्चे को जूते से पीटा और मुंह में जूता घुसा दियाा. जिस कारण मासूम बच्चे ने दम तोड़ दिया.

यूपी चुनाव: BJP का सामाजिक सम्मेलन रविवार से शुरू, CM योगी समेत ये नेता रहेंगे मौजूद

मासूस बच्चे की मौत के बाद गांव वाले ने पुलिस को मामले की सूचना दे दी. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दो महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया जबकि तांत्रिक मौके से फरार हो गया. पडरौना कोतवाल के प्रभारी निरीक्षक निर्भय सिंह ने बताया की दो महिलाओं को पुलिस हिरासत में लिया गया है अभी तक पीड़ित की तरफ से कोई तहरीर नहीं मिली है. तहरीर मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें