इलाहाबाद HC से आजम खान को राहत, नहीं तोड़ा जाएगा जौहर यूनिवर्सिटी का गेट

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 9:27 PM IST
  • समाजवादी पार्टी के नेता व सांसद आजम खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से राहत मिली है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मौहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के गेट तोड़े जाने वाले आदेश पर रोक लगाई है. हाईकोर्ट ने यूपी सरकार से चार सप्ताह में जवाब भी मांगा है. रामपुर की अदालत ने आदेश जारी करते हुए जौहर यूनिवर्सिटी का गेट तोड़ने और सवा तीन करोड़ का जुर्माना लगाया था.
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के गेट तोड़ने संबंधीआदेश पर रोक लगा दी है.

लखनऊ. सपा के वरिष्ठ नेता व सांसद आजम खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मौहम्मद अली जौहर विश्विद्यालय के गेट तोड़े जाने वाले आदेश पर रोक लगा दी है. हाल ही में दो अगस्त को रामपुर की अदालत ने जौहर विश्वविद्यालय का गेट तोड़े जाने का आदेश दिया था. साथ ही सवा तीन करोड़ का जुर्माना भी लगाया था. लेकिन हाईकोर्ट ने अब इस आदेश पर रोक लगा दी है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ने उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब तलब किया है. और चार सप्ताह में रिपोर्ट मांगी है. 

आजम खान पूर्व की सपा सरकार में कद्दावर नेता और कैबिनेट मंत्री रहे हैं . फिलहाल वो रामपुर से सांसद हैं. उत्तर प्रदेश में साल 2017 में बीजेपी की सरकार आने के बाद कई मामलों को लेकर आजम खान जेल में बंद हैं. अपनी सरकार के कार्यकाल में मौहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी बनाये जाने के कारण वो विवादों में हैं. जिला प्रशासन ने यूनिवर्सिटी के गेट को अवैध बताया था. मामला सेशन कोर्ट में चलने के बाद यूनिवर्सिटी गेट तोड़ने के आदेश जारी हुई थे. जिसके बाद जौहर यूनिवर्सिटी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपील की थी. इलाहबाद हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद फिलहाल गेट तोड़ने के आदेश पर रोक लगा दी है. आजम खान पर लगाये गए जुर्माना राशि सवा तीन करोड़ रूपये को घटाकर 1.63 करोड़ कर दिया. 

रक्षाबंधन पर बहनों को रेलवे का तोहफा, लखनऊ-दिल्ली समेत इन रूटों पर ट्रेन किराए में मिलेगी छूट

सपा के कद्दावर नेता आजम खान का इन दिनों स्वास्थ्य भी खराब है. जिस कारण उन्हें कई बार अस्पताल में भर्ती कराया गया. समाजवादी पार्टी कई बार आजम खान को लेकर यूपी सरकार पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाती है. आपको बता दे की साल 2017 में उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार बनने के बाद से आजम खान पर प्रशासन ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें