सपा-प्रसपा का हुआ गठबंधन, चाचा शिवपाल से मिलने के बाद अखिलेश का ऐलान

Smart News Team, Last updated: Fri, 17th Dec 2021, 10:01 AM IST
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 से पहले यूपी के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव प्रसपा चीफ शिवपाल यादव से मुलाकात के बाद गठबंधन का ऐलान कर दिया है. 
फोटो- अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव

लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रसाप अध्यक्ष शिवपाल यादव से मुलाकात के बाद दोनों पार्टियों के गठबंधन का ऐलान कर दिया है. अखिलेश ने ट्वीट कर कहा कि प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जी से मुलाकात हुई और गठबंधन की बात तय हुई, क्षेत्रीय दलों को साथ लेने की नीति सपा को निरंतर मजबूत कर रही है और सपा और अन्य सहयोगियों को ऐतिहासिक जीत की ओर ले जा रही है.

गौरतलब है कि गुरुवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव अपने चाचा और प्रसपा चीफ शिवपाल सिंह यादव से मिलने पहुंचे. दोनों चाचा-भतीजे ने बंद कमरे में बैठक की और सपा-प्रसपा के गठबंधन का फाइनल किया.

किसान नेता राकेश टिकैत UP चुनाव 2022 लड़ना चाहते है तो उनका स्वागत: अखिलेश यादव

2018 में अलग हो गए थे चाचा शिवपाल

पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई और अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले साल 2018 में समाजवादी पार्टी में चली लंबी पारिवारिक कलह के बाद अपनी पार्टी प्रसपा का गठन किया था.

लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रसाप अध्यक्ष शिवपाल यादव से मुलाकात के बाद दोनों पार्टियों के गठबंधन का ऐलान कर दिया है. अखिलेश ने ट्वीट कर कहा कि प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जी से मुलाकात हुई और गठबंधन की बात तय हुई, क्षेत्रीय दलों को साथ लेने की नीति सपा को निरंतर मजबूत कर रही है और सपा और अन्य सहयोगियों को ऐतिहासिक जीत की ओर ले जा रही है.

गौरतलब है कि गुरुवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव अपने चाचा और प्रसपा चीफ शिवपाल सिंह यादव से मिलने पहुंचे. दोनों चाचा-भतीजे ने बंद कमरे में बैठक की और सपा-प्रसपा के गठबंधन का फाइनल किया.

किसान नेता राकेश टिकैत UP चुनाव 2022 लड़ना चाहते है तो उनका स्वागत: अखिलेश यादव

2018 में अलग हो गए थे चाचा शिवपाल

पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई और अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले साल 2018 में समाजवादी पार्टी में चली लंबी पारिवारिक कलह के बाद अपनी पार्टी प्रसपा का गठन किया था.

|#+|

पिछले काफी समय से अखिलेश यादव और शिवपाल यादव की पार्टी के आगामी विधानसभा चुनाव में साथ उतरने की अटकलों का बाजार गर्म था. खुद शिवपाल यादव कई बार समाजवादी पार्टी से गठबंधन की इच्छा जता चुके थे तो वही अखिलेश के बयानों ने भी कई बार ऐसा ही इशारा किया था.

अखिलेश यादव ने अक्सर शिवपाल यादव के साथ गठबंधन पर घुमा फिराकर जवाब दिया लेकिन चाचा को अपने साथ ही बताया था. वहीं शिवपाल यादव भी पुरानी सब नाराजगी भुलाकर भतीजे से हाथ मिलाने के लिए अब तैयार थे. 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें