SP चीफ अखिलेश से मिले भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद, गठबंधन पर हो सकती चर्चा

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 28th Nov 2021, 1:00 PM IST
  • यूपी की राजधानी लखनऊ में रविवार को भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद सपा मुखिया अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे. इस मुलाकात के बाद प्रदेश के सियासी माहौल में दोनों के गठबंधन को लेकर चर्चा शुरू हो गई है. इससे पहले चंद्रशेखर गठबंधन को लेकर बसपा की तरफ अपने झुकाव का इशारा कर चुके हैं.
SP चीफ अखिलेश से मिले भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद, गठबंधन पर हो सकती चर्चा

लखनऊ. यूपी चुनाव से पहले सभी दलों में गठबंधन को लेकर सियासत अपने चरम पर है. कई दलों में नेताओं के आने-जाने का दौर जा रही है. इसी के बीच रविवार को लखनऊ में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव से मुलाकात से बात की. इस मुलाकात के बाद से दोनों पार्टियों में गठबंधन को लेकर चर्चा शुरू हो गई है.

चंद्रशेखर दे चुके हैं गठबंधन के संकेत

इससे पहले यूपी चुनाव को लेकर भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेकर समाजवादी पार्टी से गठबंधन के संकेत दे चुके हैं. उन्होंने कहा था कि सपा के साथ समझौता हो सकता है, क्योंकि हम सब बीजेपी को रोकना चाहते हैं. प्रदेश में तानाशाही और निरंकुश सरकार को रोकने की जरूरत है और हम राज्य के लोगों को अच्छी सरकार देना चाहते हैं.

डिप्टी CM केशव मौर्य के आवास का 69000 शिक्षक भर्ती के अभ्यर्थियों ने किया घेराव

भीम आर्मी की प्राथमिकता बसपा

भीम आर्मी की प्राथमिकता की बात करें तो वो कई मंचों से कह चुकी है और उनके नेता चंद्रशेखर खुद कई बार कह चुके हैं कि उनकी प्राथमिकता है कि वो बहुजन समाज पार्टी के साथ समझौता करें ताकि समाज को एकजुट किया जा सके. हालांकि बसपा प्रमुख मायावती हर बार भीम आर्मी का नाम सुन गुस्सा होने के साथ चंद्रशेखर को भाजपा की टीम बता चुकी हैं.

यूपी में 10वीं पास युवाओं की बल्ले-बल्ले, इस विभाग में बंपर भर्ती, ऐसे मिलेगी नौकरी

बता दें कि इससे पहले समाजवादी पार्टी सुभासपा, रालोद, अपना दल के एक गुट के साथ गठबंधन कर चुके हैं. वहीं, सपा छोटे दलों को साथ लाने को लेकर लगातार प्रयास कर रही है. अखिलेश यादव इससे पहले आप के प्रदेश प्रभारी संजय सिंह से भी मुलाकात कर चुके हैं, हालांकि उनके साथ गठबंधन को लेकर सपा व आम आदमी पार्टी ने कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें