CM बघेल का आरोप- चुनाव में विरोधियों के खिलाफ सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही BJP

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 20th Jan 2022, 10:31 AM IST
  • यूपी चुनाव में कांग्रेस का प्रचार कर रहे भूपेश बघेल ने केंद्र की भाजपा सरकार पर चुनाव में सत्ता का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया. छत्तीसगढ़ सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि भाजपा चुनाव के दौरान राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए केंद्रीय जांच एजेंसियों का इस्तेमाल करती है.
छत्तीसगढ़ सीएम  भूुपेश बघेल (फाइल फोटो) 

रायपुर (भाषा). छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के रिश्तेदार के यहां केंद्रीय एजेंसियों की छापेमारी पर भाजपा पर निशाना साधा. सीएम बघेल ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार अपने विरोधियों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है. जहां-जहां चुनाव होते हैं, उन राज्यों में विपक्ष के लोगों के परिसरों पर छापे मारे जाते हैं, ताकि लोगों को डराया- धमकाया जा सके.

UP चुनाव में ममता के प्रचार पर शुभेंदु का हमला, बोले- धर्मनिष्ठ हिंदू देंगे नकार

बघेल के लखनऊ से बुधवार को रायपुर के स्वामी विवेकानंद विमानतल पहुंचने पर संवाददाताओं ने उनसे चन्नी के भतीजे के परिसरों पर प्रवर्तन निदेशालय की छापेमारी के बारे में सवाल किया, तो छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां-जहां चुनाव होते हैं, उन राज्यों में विपक्ष के लोगों के परिसरों पर छापे मारे जाते हैं, ताकि लोगों को डराया- धमकाया जा सके.

बघेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के रिश्तेदारों के यहां छापा क्यों नहीं पड़ा. उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के रिश्तेदारों के यहां छापा क्यों नहीं पड़ा, गोवा के मुख्यमंत्री के यहां भी छापा नहीं पड़ा. क्यों विपक्षी राज्यों में छापा पड़ता है. मतलब जहां चुनाव होते हैं, वहां केंद्रीय एजेंसियों को शामिल किया जाता है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जैसे पाकिस्तान के बारे में कहा जाता है कि वहां क्रिकेट में 11 नहीं 13 खिलाड़ी खेलते हैं. वहां दो अंपायर भी खेलते हैं. ऐसी ही स्थिति यहां है, भारतीय जनता पार्टी चुनाव लड़ती है, तो केंद्रीय एजेंसियां भी उसके साथ रहती हैं. अंपायर की तरह सीबीआई, ईडी, आईबी, सब शामिल हो जाते हैं.

बघेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है. वहां की जनता परेशान है. जो ​जाति और धर्म की राजनीति कर रहे हैं, उनसे वहां की जनता ऊब चुकी है. वह अपनी समस्याओं का निदान चाहती है. महंगाई बढ़ी हुई है. बेरोजगारी बढ़ी हुई है. रोजगार कहीं मिल नहीं रहा. किसानों को उचित दाम नहीं मिल रहा. जानवर खुले में घूम रहे हैं. फसल बचाना मुश्किल है. इन सब मुद्दों को लेकर वहां के सभी लोग परेशान हैं, फिर भले ही वह किसान हो या नौजवान हो.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें