सपा को झटका, पूर्व विधायक कालीचरण राजभर कई नेताओं के साथ भाजपा में शामिल

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 12th Dec 2021, 1:27 PM IST
  • यूपी विधानसभा से पहले गाजीपुर से सपा के पूर्व विधायक कालीचरण राजभर ने भाजपा का दामन थाम लिया है. लखनऊ में भाजपा कार्यालय में कालीचरण अपने समर्थक व राजभर समाज के कई नेताओं के साथ भाजपा में शामिल हुए. इस मौके पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी, मंत्री ब्रजेश पाठक समेत कई नेता मौजूद रहे.
सपा को झटका, पूर्व विधायक कालीचरण राजभर कई नेताओं के साथ भाजपा में शामिल

लखनऊ. राजधानी में आज का दिन दलबदल की सियासत से गर्म रहा. जहां भाजपा विधायक दिग्विजय चौबे और हरिशंकर तिवारी सरीके नेता सपा का दामन थामने जा रहे हैं. वहीं, सपा के पूर्व विधायक कालीचरण राजभर अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल हो गए. उनके साथ राजभर समाज के कई नेताओं ने भाजपा का दामन थामा. इस मौके पर प्रदेश भाजपा जॉइनिंग कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी, प्रदेश सरकार में मंत्री ब्रजेश पाठक व अनिल राजभर समेत कई नेता मौजूद रहे.

इन नेताओं ने ली भाजपा की सदस्यता

भाजपा में गाजीपुर से सपा के पूर्व विधायक कालीचरण राजभर, भारतीय संघर्ष पार्टी के अध्यक्ष मदन राजभर, जिला पंचायत सदस्य मोनू राजभर, महासचिव सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ज्ञान भारद्वाज, भारतीय सुहेलदेव समाज सेना के अध्यक्ष बब्बन राजभर, प्रकाश राजभर आजमगढ़, राजकुमार गुप्ता आजमगढ़, अविनाश वर्मा, प्रमोद द्विवेदी, समाजवादी पार्टी की नेता मालनी द्विवेदी शामिल हुईं हैं.

BJP MLA दिग्विजय चौबे और हरिशंकर तिवारी परिवार समेत SP में आज होंगे शामिल

भाजपा परिवार में मेहनत से कोई भी पा सकता मुकाम

योगी सरकार के मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि भाजपा एक ऐसा परिवार है, जिसमें कोई भी अपनी मेहनत से अपना मुकाम हासिल कर सकता है. अन्य पार्टियों में उनके परिवार का सदस्य ही पार्टी का मुखिया होता है.

ओमप्रकाश की जगह असलम राजभर रखे लें नाम

मंत्री अनिल राजभर ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर पर हमला बोलते हुए कहा कि ओमप्रकाश को अपना नाम बदलकर असलम राजभर कर लेना चाहिए. राजभर समाज भाजपा के साथ है. हम सब 2022 में भाजपा की सरकार बनाने के लिए कटिबद्ध हैं.

अखिलेश बोले- पहले मंत्री पद छोड़ो, अनुप्रिया पटेल बोलीं- राजनीति में कुछ भी संभव

बता दें कि कालीचरण राजभर दो बार बसपा से विधायकर रहे चुके हैं और वर्तमान में सपा के नेता हैं और 2017 में सपा की टिकट से चुनाव लड़ा था लेकिन हार गए थे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें