UP चुनाव: अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के बीच बैठक, सपा-RLD में सीटों पर बनी सहमति!

Jayesh Jetawat, Last updated: Thu, 6th Jan 2022, 9:49 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने आरएलडी नेता जयंत चौधरी के साथ अहम बैठक की. बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं में सीट बंटवारे को लेकर सहमति बन गई है. सपा और आरएलडी के उम्मीदवार 8 सीटों पर एक-दूसरे के सिंबल पर चुनाव लड़ने वाले हैं.
सपा-आरएलडी गठबंधन में सीट शेयरिंग फॉर्मूले पर चर्चा करते अखिलेश यादव और जयंत चौधरी (फोटो- Akhilesh Yadav Twitter)

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव में गठबंधन कर चुनाव लड़ रही समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल के बीच सीटों को लेकर सहमति बन गई है. पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव की गुरुवार को आरएलडी अध्यक्ष जयंत चौधरी के साथ बैठक हुई. दोनों नेताओं ने सीट बंटवारे को लेकर चर्चा की. बताया जा रहा है कि दोनों पार्टियां उत्तर प्रदेश की 8 विधानसभा सीटों पर एक-दूसरे के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगी.

रिपोर्ट्स के मुताबिक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आरएलडी का प्रभाव रहा है. ऐसे में सपा के 6 उम्मीदवार यहां आरएलडी के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं. सपा इन सीटों पर अधिकतर मुस्लिम नेताओं को टिकट देने की योजना बना रही है. वहीं आरएलडी के दो उम्मीदवार सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ सकते हैं. पार्टी सपा के प्रभाव वाले क्षेत्र में जाट उम्मीदवारों को मैदान में उतार सकती है.

यूपी में चुनावी रैलियों पर कोरोना की मार, AAP ने की सभी जनसभाएं स्थगित

सूत्रों के मुताबिक दोनों नेताओं के बीच सीटों की संख्या तय हो गई है. हालांकि अभी तक दोनों ही पार्टी की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है. मगर दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन फाइनल है.

दोनों नेताओं ने अपने ट्विटर हैंडल से गुरुवार को बैठक की तस्वीर साझा की. जयंत ने लिखा कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए हमारे संबंधों को मजबूत किया. वहीं, अखिलेश ने लिखा जयंत चौधरी के साथ उप्र के भविष्य के विकास की बात हुई.

अखिलेश को लेकर प्रसपा प्रमुख शिवपाल का बड़ा बयान, सीएम बनाना लक्ष्य

रिपोर्ट्स के मुताबिक जयंच चौधरी गठबंधन में 35-40 सीटों की मांग कर रहे थे. मगर अखिलेश यादव ने आरएलडी को 28 सीटें देने की पेशकश की. 2017 के विधानसभा चुनाव में आरएलडी ने अकेले चुनाव लड़ा था और महज एक सीट पर जीत हासिल की थी. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें