UP Election 2022: वर्चुअल प्रचार में जुटी राजनीतिक पार्टी, लाइव व्यू खोलेगा सियासी पकड़ की पोल

Sumit Rajak, Last updated: Mon, 10th Jan 2022, 10:44 AM IST
  • उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का ऐलान किया जा चुका है. साथ ही चुनाव आयोग ने साफ कर दिया है कि किसी भी राज्य में रैलियों और रोड शो के आयोजन की इजाजत नहीं होगी. इसके अलावा किसी नुक्कड़ सभा का आयोजन भी सार्वजनिक स्थानों पर नहीं किया जा सकेगा. आयोग ने भी वर्चुअल रैलियां की सिफारिश की है
फाइल फोटो

लखनऊ. वर्चुअल… वर्चुअल का शोर है… आयोग ने भी वर्चुअल रैलियां की सिफारिश की है. लिहाजा इस बार का सियासी पारा नापने के पैमाने अलग होंगे. रैलियों की भीड़ और रैली स्थल पर खड़ी बसों से भीड़ का अंदाजा लगाने के परंपरागत तरीके इस बार झोलों में बंद रहेंगे. न ही नेता का जोश भाषण के बीच में बजने वाली तालियों और नारों से बढ़ेगा. विधानसभा चुनाव का आगाज होते ही सभी राजनीतिक पार्टियां अपने चुनाव प्रचार का नया खाका खींचने में व्यस्त हो गई है. 

इस बार के चुनाव इस मामले में अलग होंगे कि नेताओं को पता ही नहीं होगा कि उन्हें कितने लोग सुन रहे हैं या केवल लाइव के लिंक को क्लिक करके छोड़ दिया है. वहीं सामने जनता के न होने पर नेताओं का भी उत्साह नहीं बढ़ेगा. अब उनकी नजर  भीड़ की बजाए लाइव के बढ़ते और घटते हुए व्यू पर रहेगी. बढ़ते हुए व्यू नेताओं को जोश में डालेंगे तो घटते हुए व्यू सेआवाज़ धीमी होती जाएगी.

हार के डर से विपक्ष खोज रहा बहाना, पहले EVM अब डिजिटल को बता रहा खतराः दिनेश शर्मा

वहीं विपक्षी पार्टियों के लाइव व्यू के दावों पर सियासी तीर भी चलेंगे क्योंकि लाइव के बाद आम जनता यह नहीं जान सकती कि किसी लाइव को कितने लोगों ने देखा है जानकारों के अनुसार वर्चुअल रैलियां  इस मायने में ज्यादा मुश्किल होगी कि यह आपको सामने कुछ नहीं दिखेगा. मैदानों पर जमा भीड़ और उनकी बातों में मनमिजाज  पता चलता है. जबकि वर्चुअल रैलियों के मामले में ऐसा नहीं होगा. इसमें पार्टियों को ज्यादा मेहनत करनी होगी. विधानसभाओं में बैठे कार्यकर्ताओं को आम जनता को छोटे-छोटे मजमे में जमा कर इन्हें सुनाने की जिम्मेदारी देनी होगी. क्योंकि गांव का आदमी इस लिंक को खोलकर सुनेगा. यह सुनिश्चित करना मुश्किल होगा.

यह होगी चुनौतियां 

.ज्यादा से ज्यादा नेताओं की मौजूदगी इन प्लेटफार्म पर दर्ज करवाना और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म  माध्यम से रैली को शेयर करवाना. 

.अपने फ्लोर की संख्या बढ़वाना.

.दूर-दराज में कार्यकर्ता के माध्यम से नुक्कड़ पर चौपालों पर इन वर्चुअल रैलियों को देखना  सुनिश्चित करना

सोशल मीडिया पर प्रमुख नेताओं के फॉलोअर्स

नाम                                        टि्वटर                         फेसबुक 

योगी आदित्यनाथ                 1.6 करोड़                      68.76 लाख 

अखिलेश यादव                   1.5 करोड़                      75. 07 लाख 

मायावती                             23 लाख                            ……….

राहुल गांधी                          1.9 करोड़                      46.30 लाख 

प्रियंका गांधी                        44 लाख                          45.14 लाख 

अनुप्रिया पटेल                     1.36                                7.13 लाख 

जयंत सिंह                           1.55 लाख                       4.26 लाख

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें