AIMIM चीफ असदुद्दीन तीन दिन UP दौरे पर, 7 सितंबर को जाएंगे अयोध्या, फुल शेड्यूल

Somya Sri, Last updated: Sun, 5th Sep 2021, 9:51 AM IST
  • एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी तीन दिन के दौर पर यूपी आ रहें हैं. सात से नौ सितंबर के बीच ओवैसी वंचित शोषित समाज के लिए सम्मेलन करेंगे. ओवैसी 7 सितंबर को अयोध्या जाएंगे. जहां अयोध्या के रूदौली विधानसभा क्षेत्र में पार्टी कार्यकर्ताओं से उनकी मुलाकात होगी.
एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अभी वक़्त है. लेकिन, राजनीतिक पार्टियां अभी से ही जोर शोर से चुनाव की तैयारियों में जुट गई है. एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी यूपी चुनाव को लेकर कमर कस ली है. इसी सिलसिले में ओवैसी तीन दिन के दौर पर यूपी आ रहें हैं. सात से नौ सितंबर के बीच ओवैसी वंचित शोषित समाज के लिए सम्मेलन करेंगे.

जानकारी के मुताबिक ओवैसी 7 सितंबर को अयोध्या जाएंगे. जहां अयोध्या के रूदौली विधानसभा क्षेत्र में पार्टी कार्यकर्ताओं से उनकी मुलाकात होगी. इस दौरान यूपी चुनाव को लेकर कार्यकर्ताओं को पार्टी की रणनीति से अवगत कराएंगे. इसके बाद वो शेख मखदूम शाह की दरगाह पर जाएंगे. वहीं ओवैसी आठ सितंबर को सुल्तानपुर और 9 सितंबर को बाराबंकी जाएंगे. जहां ओवैसी वंचित शोषित समाज के लिए सम्मेलन को संबोधित करेंगे. इसपर शौकत अली ने कहा कि उनकी पार्टी यूपी में विकास के हैदराबाद मॉडल को लेकर आएगी. जहां मुअज्जिन (मस्जिद में अजान देने वाले) और मंदिर के पुजारी दोनों को वेतन दिया जाता है."

यूपी चुनाव से पहले जनता से फीडबैक लेगी BJP, शिक्षक दिवस से शुरू होगा भाजपा का प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन

मालूम हो कि ओवैसी की आगमन को लेकर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने जगह जगह पोस्टर चिपकाए हैं. इस पोस्टर में अयोध्या के जगह फैजाबाद नाम लिखे जाने पर भी विवाद शुरू हो गया है. इसपर उन्होंने कहा कि, "जिलों के नाम बदलने से विकास नहीं होता. मुगलों ने आठ सौ साल इस मुल्क पर हुकूमत की मगर क्या उन्होंने रामपुर या सीतापुर के नाम बदले."

यूपी में विस चुनाव को लेकर गठबंधन कर सवाल पर शौकत अली ने कहा कि," अभी तो हम भागीदारी संकल्प मोर्चा का हिस्सा हैं, अभी इंटरवल हुआ है, पिक्चर अभी बाकी है. जहां तक कांग्रेस का सवाल है तो वह तो डूबता जहाज है. हां बसपा, सपा अगर चाहेंगे तो हम उनके साथ बातचीत करने को तैयार हैं."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें