BJP से आ रहे इस्तीफों पर आम जनता निकाल रही भड़ास, खूब शेयर हो रहे मीम्स व कमेंट्स

Somya Sri, Last updated: Sat, 15th Jan 2022, 10:44 AM IST
  • भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा का दौर समाप्त नहीं हो रहा है. लेकिन आम आदमी अब निडर है और इस पर अपनी राय रख रहे हैं. सोशल मीडिया पर आम आदमी मीम्स और ठहाके मारने वाले कमेंट शेयर कर रहे हैं. खास बात यह है कि इसके जरिए आम आदमी अपनी भड़ास निकाल रहे हैं.
भारतीय जनता पार्टी (file photo)

लखनऊ: एक ओर बीजेपी से इस्तीफों का दौर खत्म नहीं हो रहा, दूसरी ओर आम आदमी इसपर ठहाके लगा रहा है. सोशल मीडिया पर जमकर मीम्स, कमेंट्स शेयर हो रहे हैं जो इन राजनीतिक दलों पर टिप्पणी कर रहे हैं. खास बात ये है कि ये आम आदमी की ओर से ऐसे कमेंट्स आ रहे हैं. जिससे यह बात जाहिर हो रही है कि आम आदमी निडर है. उसे किसी से डर नहीं अपनी बात रखने में. अपना दल (सोनेलाल) के एक विधायक के दलबदल पर एक ने लिखा है कि, " खेला होबे की अपार सफलता के बाद अब भगदड़ होबे." एक ने लिखा "पहले डा.उदित राज और शत्रुघ्न सिन्हा ने टिकट नहीं मिलने पर भाजपा छोड़ी थी. आज उदित राज अमेरिका के राष्ट्रपति और शत्रुघ्न जर्मनी के चांसलर हैं. अब ऐसी चर्चा है कि मौर्या को ब्रिटेन का प्रधानमंत्री नियुक्त किया जा सकता है."

लखनऊ: घर लौटती लड़की को घसीट कर अगवा करने की कोशिश, ऐसे बची जान

एक कमेंट यह भी था "शादी के पांच साल बाद फूफाजी को याद आया कि गुलाब जामुन में शक्कर कम थी और सब्जी में नमक नहीं था." एक कमेंट यह था कि, " अब सब नेता अपनी जगह जा रहे हैं. बाबाजी को अपने मठ में फूंकने चले जाना चाहिए." एक ने लिखा कि, "यदि बीजेपी में इस्तीफे का दौर यूं ही चलता रहा तो 10 फरवरी तक ही पेट्रोल का भाव 50 रुपये लीटर हो जाएगा." एक ने लिखा है कि "यूपी में बीजेपी को जैसे झटके लग रहे हैं ऐसे में इस पार्टी का नाम बदलकर भारतीय झटका पार्टी रखना चाहिए. वशीकरण यज्ञ करना चाहिए. इससे सारे विधायक वश में रहेंगे. जया बच्चन का श्राप भी निष्फल हो जाएगा."

वहीं स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे पर एक आम आदमी ने लिखा कि, "चोर-चोर मौसेरे भाई, बिना तरी के लोटा, हे पिछड़ों और दलितों की हितैषी... कृपया अपनी परी (बेटी) का सांसद पद से इस्तीफा तो दिलाइए”, ये स्वामी नहीं संत है भाजपा का अंत है, जयचंदों के कारण ही हम 1200 वर्ष तक गुलाम रहें पर अब नहीं चलेगा...”, बस आपको हारते देख लूं तो गंगा नहा लूं."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें