मायावती के 'वोटकटवा' रामदास आठवले बोले- BSP को करो बाय, ज्वाइन करो RPI

Smart News Team, Last updated: Wed, 23rd Jun 2021, 8:58 PM IST
  • नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्री रामदास आठवले ने यूपी चुनाव से पहले दलित, अल्पसंख्यक और बहुजनों से मायावती की बसपा का साथ जोड़कर आरपीआई का समर्थन करने की अपील की है. आठवले की पार्टी ने 2017 का चुनाव अकेले लड़ा था लेकिन कोई जीत नहीं पाया था. तब आठवले ने कहा था कि उनके कैंडिडेट बीएसपी का वोट काटकर बीजेपी की मदद करेंगे.
मायावती के 'वोटकटवा' रामदास आठवले बोले- BSP को करो बाय, ज्वाइन करो RPI

नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, केंद्र और राज्य में सरकार चला रही बीजेपी के अंदर और एनडीए में उसके सहयोगी दलों के नेता प्रेशर पॉलिटिक्स का खुला खेल खेलने लगे हैं. अब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री और महाराष्ट्र में एनडीए पार्टनर रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया-आठवले के नेता रामदास आठवले ने एक ट्वीट किया है कि लोग मायावती की बहुजन समाज पार्टी को बाय-बाय करके आरपीआई ज्वाइन करें.

आठवले ने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्वीटर पर लिखा है- "बीएसपी को करो बाय बाय. जॉईन करो आरपीआय. ओ मेरे भाय. सबकी है आरपीआय. दलित, अल्पसंख्यांक, बहुजनांना आता एकच पर्याय, फक्त आरपीआय! आरपीआय ! " आठवले ने 2017 के विधानसभा चुनाव में केंद्र में एनडीए का पार्टनर और मोदी सरकार का मंत्री रहते हुए यूपी में कई सीटों पर आरपीआई कैंडिडेट उतारे थे. हालांकि तब खुद आठवले ने कहा था- "आरपीआई को दलितों का समर्थन है. अगर मेरे उम्मीदवार बीएसपी का वोट काटते हैं तो इससे बीजेपी को फायदा होगा." आठवले ने यूपी चुनाव लड़ने पर सफाई दी थी कि उनके लड़ने से बीजेपी को फायदा होगा क्योंकि उनकी पार्टी दलितों का वोट काटेगी तो मायावती की बसपा को नुकसान होगा.

यूपी के सभी गरीब लोगों को मुफ्त वैक्सीन लगने के बाद लेंगे टीका - अखिलेश यादव

आठवले दलित, अल्पसंख्यक और बहुजन तीन सेगमेंट को फोकस करते हुए इतने उत्साहित हैं कि उन्होंने एक ही जैसा ट्वीट लगातार दो बार किया है. दोनों ट्वीट में सिर्फ एक अंतर है, बीच में - ओ मेरे भाय सबकी है आरपीआय- जोड़ा गया है. यूपी चुनाव के मद्देनजर बीजेपी में पहले तो नेतृत्व परिवर्तन की अफवाह उड़ी लेकिन पार्टी नेतृत्व मजबूती के साथ योगी के पीछे खड़ा रहा. फिर सीएम कैंडिडेट को लेकर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के जवाब से खटपट की खबर चली. अब निषाद पार्टी के नेता संजय निषाद ने डिप्टी सीएम की कुर्सी मांग ली है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें