UP चुनाव: निषाद आरक्षण को लेकर जनगणना आयुक्त से मिले संजय निषाद

Somya Sri, Last updated: Wed, 29th Dec 2021, 9:24 AM IST
  • निषाद आरक्षण को लेकर निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय निषाद ने भारत के महारजिस्टार एवं जनगणना आयुक्त विवेक जोशी से मुलाकात की है. जिसके बाद उन्होंने कहा कि जनगणना आयुक्त ने निषाद आरक्षण पर गंभीरता से विचार करने का भरोसा दिलाया है.
डॉ संजय निषाद (फाइल फोटो)

लखनऊ: निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय निषाद ने भारत के महारजिस्टार एवं जनगणना आयुक्त विवेक जोशी से मुलाकात की है. मंगलवार शाम यूपी भाजपा के चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के नई दिल्ली स्थित आवास पर उनकी मुलाकात हुई. इस दौरान उन्होंने निषाद आरक्षण पर विस्तार से चर्चा का दावा किया है. उन्होंने कहा," जनगणना आयुक्त ने निषाद आरक्षण पर गंभीरता से विचार करने का भरोसा दिलाया है. उन्होंने इसे अविष्मरणीय पल और समाज की सामाजिक और राजनीतिक चेतना का परिणाम बताया. इसके लिए निषाद पार्टी और भाजपा कार्यकर्ताओं को बधाई भी दी." इस मुलाकात में संजय निषाद के साथ सांसद प्रवीण निषाद भी मौजूद थे.

सीएम योगी ने लिखा पत्र

वहीं पिछले दिनों यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने भारत सरकार के रजिस्ट्रार जनरल और जनगणना आयुक्त को पत्र निषाद आरक्षण को लेकर पत्र लिखा था. पत्र में उन्होंने लिखा था कि, "उत्तर प्रदेश की अनुसूचित जाति की सूची के क्रमांक 53 पर मझवार जाति का उल्लेख है. प्रदेश के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में मझवार जाति के लोग माझी, मझवार, केवट, मल्लाह, निषाद आदि उपनामों का प्रयोग करते हैं. इसके चलते इन्हें अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र नहीं मिल पाता है, जबकि अन्य अनुसूचित जातियों के लोगों को उपनाम लिखने पर भी उन्हें एससी का प्रमाण पत्र जारी करने में कोई आपत्ति नहीं होती है."

स्वास्थ्य विभाग लखनऊ के सिविल और बलरामपुर अस्पताल में बड़ा तबादला

अमित शाह ने भी दिए थे संकेत

वहीं बीते दिनों निषाद पार्टी और भाजपा की संयुक्त रैली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी कहा था, " सरकार निषाद समाज की सभी समस्याओं को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है." उन्होंने कहा था कि, "इस मामले में राज्य सरकार ने सकारात्मक पहल की है." मालूम हो कि निषाद पार्टी के प्रमुख डा. संजय निषाद ने मझवार जाति के सभी उपनाम वाले लोगों को भी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र प्रदान किए जाने की मांग की थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें