सोशल मीडिया पर युवाओं को उकसा रहे अल कायदा के आतंकवादी, फैलाना चाहते आतंक

Smart News Team, Last updated: 21/09/2020 07:47 AM IST
अल कायदा मॉड्यूल के बारे में पता चलने के बाद से यूपी एटीएस अलर्ट पर है. इस मॉड्यूल में सोशल मीडिया से युवाओं को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए उकसाया जा रहा है.  एनआईए ने शनिवार को नौ आतंकियों को गिरफ्तार किया था. यह लोग दिल्ली और एनसीआर में हमला करने की फिराक में थे. 
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. पाकिस्तान हमेशा से भारत में आतंकवाद को बढ़ावा देता आया है.  पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी संगठन अल कायदा मॉड्यूल के बारे में पता लगने के बाद से यूपी एटीएस अलर्ट पर है. इस मॉड्यूल में कहा गया कि सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए उकसाया जाए . इसी को देखते हुए एटीएस सोशल मीडिया पर नजर रख रहा है और लगातार राष्ट्रीय जांच एजेंसी( एनआईए) से बात भी कर रहा है. शनिवार को एनआईए ने पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से छह और केरल के एर्नाकुलम से तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया था. शुरुआती जांच में पता चला कि अल-कायदा के आतंकवादी देश की राजधानी दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) सहित कई स्थानों पर आतंकी हमले करने की फिराक में थे.एनसीआर में उत्तर प्रदेश का गाजियाबाद, नोएडा और अन्य सीमावर्ती जिले आते हैं.

कोरोना काल में करीब 28 फीसदी उम्मीदवारों ने छोड़ी यूपीएसईई 2020 प्रवेश परीक्षा

पश्चिमी यूपी में इन आतंकियों का कनेक्शन हो‌ सकता है. सुरक्षा एजेंसी भी इन जिलों में स्लीपर सेल की बात कह चुकी है. इसी को देखते हुए नेपाल सीमा से सटे यूपी के जिलों में सावधानी बरती जा रही है. जिस आतंकी अबू युसूफ दिल्ली के धौलाकुआं में दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने गिरफ्तार किया था, वह बलरामपुर जिले के उतरौला में रहने वाला मुस्तकीम था.

अनी बुलियन में शामिल रिटायर PCS सहित 3 अरेस्ट, 13 कंपनियों से 600 करोड़ का फ्रॉड

एटीएस ने हाल ही में बेरली का रहने वाले इनामुहलक और उसके कॉन्टैक्ट में आए जम्मू कश्मीर के दो युवाओं को भी गिरफ्तार किया था. सोशल मीडिया के जरिए ही इनामुहलक अलकायदा से जुड़ा था. जांच एजेंसियों के पास इसके सबूत भी है. इसी को देखते हुए एटीएस और एनआईए सोशल मीडिया पर संदिग्ध लोगों पर नजर रख रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें