अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन से पहले अंडरग्राउंड हो जाएंगी 989 KM बिजली की तार

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 12th Oct 2021, 5:10 PM IST
  • उत्तर प्रदेश अयोध्या को धार्मिक पर्यटन स्थल बनाने के तहत वहां की 989 किलोमीटर ओवरहेड केबल को भूमिगत किया जाएगा. साथ ही अयोध्या में चल रहे बिजली परियोजना के तहत 135 ट्रांसफार्मर भूमिगत कर दिए गए है.
यूपी अयोध्या को धार्मिक पर्यटन स्थल में बदलने की प्रक्रिया तहत 989 किलोमीटर ओवरहेड केबल को भूमिगत किया जाएगा

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मंदिरों की नगरी अयोध्या को धार्मिक पर्यटन स्थल में बदलने की प्रक्रिया चल रही है. जिसमें बिजली परियोजना के तीसरे चरण का शुभारंभ होने जा रहा है. जिसके तहत 989 किलोमीटर ओवरहेड केबल को हटाकर उन्हें भूमिगत किया जाएगा. जिसपर अधिकारियों ने कहना है कि इस दिशा में एक कदम के रूप में देखा जा रहा है. वहीं इस परियोजना का शुभारंभ अयोध्या से भाजपा के सांसद लल्लू सिंह ने रविवार को किया.

लल्लू सिंह के मुताबिक, राज्य सरकार जल्द ही इस परियोजना को मंजूरी देगी और अगले दो महीनों में परियोजना का दूसरा चरण शुरू हो जाएगा. साथ ही अयोध्या (सदर) निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा विधायक वेद प्रकाश गुप्ता ने कहा कि अयोध्या को विश्व स्तरीय पर्यटन स्थल में बदलना राज्य सरकार की प्राथमिकता सूची में है. यह बिजली परियोजना भी इसी योजना का हिस्सा है.

लखनऊ: सपा नेता की प्रताड़ना से परेशान युवक ने CM आवास के बाहर खाया जहर

अयोध्या में चल रही बिजली परियोजना के तहत करीब 135 ट्रांसफार्मर भूमिगत कर दिए गए है. तीसरे चरण में 30 और ट्रांसफार्मर अंडरग्राउंड किए जाएंगे. साथ ही अयोध्या प्रशासन की ओर से शहर के शेष हिस्सों से ओवरहेड बिजली के तारों को भूमिगत करने के लिए उन्हें हटाने के लिए 1200 करोड़ रुपये की परियोजना का एक अन्य प्रस्ताव भी राज्य सरकार को भेजा गया है.

यह महत्वाकांक्षी 180 करोड़ रुपये की बिजली परियोजना दिसंबर 2023 तक अयोध्या को बदलने की केंद्र और राज्य सरकार की योजना का हिस्सा है. जिसे उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) ने यह जिम्मेदारी लार्सन एंड टुब्रो को सौंपी है. वहीं यह परियोजना केंद्र की एकीकृत बिजली विकास योजना (आईडीपी) के तहत संचालित की जाएगी. बता दें कि राम मंदिर के निर्माण कार्य में भी तेजी लाई गई है. श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने भक्तों के लिए मंदिर के गर्भगृह को खोलने के लिए दिसंबर 2023 की समय सीमा तय की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें