यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं परीक्षाएं तो कैंसिल, अब क्या होगी एग्जाम फीस वापस ?

Smart News Team, Last updated: Wed, 2nd Jun 2021, 8:22 PM IST
  • यूपी बोर्ड अभी भी बारहवीं की बोर्ड परीक्षा का आयोजन करा सकता है लेकिन यह तय है कि यूपी बोर्ड की दसवीं कक्षा के सभी छात्रों को प्रमोट कर दिया जाएगा लेकिन छात्रों ने जो यूपी बोर्ड परीक्षाओं के लिए एग्‍जाम फीस जमा की है, उस वापस नहीं किया जाएगा.
यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं परीक्षाएं कैंसिल

लखनऊ। देश भर में फैले कोरोना संक्रमण के कारण इस साल विभीन्न शिक्षा बोर्ड सीबीएसीसी,आईसीएससी और यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया है. संभावना है कि यूपी बोर्ड अभी भी बारहवीं की बोर्ड परीक्षा का आयोजन करा सकता है लेकिन यह तय है कि यूपी बोर्ड की दसवीं कक्षा के सभी छात्रों को प्रमोट कर दिया जाएगा लेकिन छात्रों ने जो यूपी बोर्ड परीक्षाओं के लिए एग्‍जाम फीस जमा की है, उस वापस नहीं किया जाएगा. यूपी बोर्ड के अनुसार उसी एग्जाम फीस को सर्टिफिकेट बनाने में इस्तेमाल किया जाएगा.

कल पीएम नरेंद्र मोदी के साथ हुई मीटिंग के बाद उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड 2021 द्वारा हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की परिक्षाओं को कोरोना संक्रमण के चलते रद्द कर दिया गया है. इसके अलावा अब यह संभावना है कि यूपीबोर्ड इंटर की परीक्षा आयोजित करा सकता है. फिलहाल अभी इस मामले पर कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया है . अभी फिलहाल यही फैसला लिया गया है कि दसवीं की 2021 की परीक्षा देने वाले छात्रों को प्रमोट कर दिया जाएगा.

CBSE 12वीं की परीक्षा रद्द पर बोले अखिलेश- अभिभावकों के दबाव से BJP सरकार झुकी

यूपी बोर्ड द्वारा आयोजित बोर्ड परिक्षाओं के लिए हाईस्कूल और इंटरमीडिएट 2021 के छात्र, छात्राओं ने एग्जाम फीस पहले ही जमा कर दी थीं. हाईस्कूल के परीक्षार्थियों ने 501 रुपये एग्जाम फीस और इंटरमीडिएट के छात्रों ने 601 रुपए एग्जाम फीस जमा कराई थी. यूपीबोर्ड द्वारा आयोजित बोर्ड एग्जाम देने वाले हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के छात्रों का कहना है कि अगर हम परीक्षा में शामिल नहीं होंगे तो क्या हमारी एग्जाम फीस वापस की जाएगी. इस संबंध में बोर्ड ऑफिस ने साफ जवाब दे दिया है. यूपी बोर्ड सचिव डीके शुक्ला के अनुसार बोर्ड एग्जाम तो नहीं होंगे लेकिन एग्जाम फीस का इस्तेमाल छात्रों के सर्टिफिकेट बनाने के लिए किया जाएगा.

कोरोना कंट्रोल का ‘योगी मॉडल’ अब लाने लगा रंग, 24 घंटे में आए सिर्फ 1500 नए केस

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें