लखनऊ: स्कूलों को मान्यता रद्द का नोटिस, फिर बनाया UP बोर्ड परीक्षा का केंद्र

Smart News Team, Last updated: Mon, 22nd Mar 2021, 4:07 PM IST
  • लखनऊ में जिन स्कूलों की मान्यता रद्द होने का नोटिस जारी किया गया उनको भी बोर्ड परीक्षा केन्द्र बना दिया है. इससे स्कूल प्रबंधक सवाल खड़ कर रहे हैं कि जब मानक पूरे नहीं है तो परीक्षा केन्द्र कैसे बना दिया गया. मान्यता रद्द करने का नोटिस संयुक्त शिक्षा के निदेशक ने जारी किया है.
संयुक्त शिक्षा के निदेशक ने लखनऊ के 299 स्कूलों की मान्यता रद्द करने का नोटिस जारी किया.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में उन स्कूलों को भी बोर्ड परीक्षा का केन्द्र बनाया गया है जिनकी मान्यता रद्द होने का नोटिस जारी किया गया है. मिली जानकारी के अनुसार, संयुक्त शिक्षा के निदेशक सुरेन्द्र तिवारी की ओर से लखनऊ में 299 इंटर कॉलेजों की मान्यता खत्म होने का नोटिस जारी किया गया है. स्कूल प्रबंधकों को कहना है कि जब मानक पूरे नहीं है तो परीक्षा केन्द्र क्यों बनाया जा रहा है.

यूपी के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि किसी स्कूल का उत्पीड़न नहीं होगा. स्कूलों को नोटिस जारी होने के मामले में हमन ज्वाइंटर डायरेक्टर सुरेन्द्र तिवारी को इस संबंध में निर्देश दिए हैं. उनको फोन करके हमने कड़ाई के साथ कहा कि संचालकों की पूरी बात सुने. डिप्टी सीएम ने कहा कि किसी के साथ अन्याय बिल्कुल भी नहीं होने दिया जाएगा. बोर्ड परीक्षा केन्द्र काफी पारदर्शी तरीके से बनाए गए हैं.

UP में सीएम पोर्टल पर मंत्री भी कर रहे शिकायत, जानें पूरा मामला

संयुक्त शिक्षा के निदेशक इस नोटिस में कहा गया है कि इन स्कूलों में मानक पूरे नहीं है. गोमती नगर के टीडी गर्ल्स इंटर कॉलेज को मान्यता रद्द करने का नोटिस जारी किया गया लेकिन परीक्षा केन्द्र बनाया गया है. इसी तरह एसपी सिंह इंटर कॉलेज सैदपुर माल और एसएसजेडी इंटर कॉलेज केशव नगर सीतापुर रोड को मान्यता रद्द करने का नोटिस जारी किया गया और परीक्षा केन्द्र बनाया गया है.

लखनऊ एयरपोर्ट कस्टम ने स्पीकर से पकड़ा 38 लाख का सोना, हिरासत में यात्री

इस बारे में टीडी गर्ल्स इंटर कॉलेज गोमती नगर के प्रबंधक महादेव यादव ने कहा कि जब मानक पर विद्यालय खरा नहीं है तो बोर्ड परीक्षा केन्द्र कैसे बना दिया गया? उन्होंने कहा कि उन्हें हाईस्कूल की मान्यता 1996 और इंटर की 2000 में मिली थी. इतना लंबा समय बीतने के बाद अब क्यों मानकों की याद आई है? 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें