चार साल से 21 हजार शिक्षकों को UP में नहीं मिली पूरी सैलरी

Smart News Team, Last updated: Wed, 7th Jul 2021, 9:50 AM IST
  • आल इण्डिया टीचर्स एसोसिएशन मदारिसे अरबिया के राष्ट्रीय महामंत्री वहीदुल्लाह खान ने बताया कि यूपी के 21 हजार 200 आधुनिक मदरसा शिक्षकों को पिछले चार सालों से पूरा वेतन नहीं मिल पा रहा है. यूपी सरकार में इन शिक्षकों को अधूरा वेतन मिल रहा है.
यूपी के 21 हजार शिक्षकों को चार साल से नहीं मिल पा रही पूरी सैलरी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार भले ही आए दिन विकास कर रही है, लेकिन पिछले 4 सालों से यूपी सरकार में शिक्षकों को सैलरी नहीं मिली है. आल इण्डिया टीचर्स एसोसिएशन मदारिसे अरबिया के राष्ट्रीय महामंत्री वहीदुल्लाह खान ने बताया कि प्रदेश के 21 हजार 200 शिक्षकों को पिछले 4 साल से सैलरी नहीं मिल रही है. खान के अनुसार सरकार की तरफ से साल 2017-18, 2018-19, 2019-20 और 2020-21 का केन्द्रांश नहीं मिला है, इस कारण ही शिक्षकों को अधूरा वेतन ही मिल पा रहा है.

इस पूरे मामले में वहीदुल्लाह खान ने बताया कि राज्यांश के पैसों से ही इन शिक्षकों को हर महीने 2-3 हजार रुपये मिलते थे. हालांकि पिछले चार साल से पैसे ही नहीं मिल रहे हैं. बता दें कि इस मामले में उन्होंने मुख्यमंत्री को भी शिकायत पत्र लिखा है कि आधुनिक मदरसा शिक्षकों के केन्द्रांश मानदेय भुगतान के बारे में केन्द्र सरकार द्वारा धनराशि उपलब्ध कराएं. इस शिकायत पत्र की एक कॉपी पीएम मोदी और मानव संसाधन विकास मंत्री को भी भेजी गई है.

बता दें कि मदरसों में ये शिक्षक गणित, विज्ञान, अंग्रेजी, कम्प्यूटर आदि आधुनिक विषय पढ़ाते हैं. अगर इन शिक्षकों की सैलरी की बात की जाए तो राज्यांश से बीए पास शिक्षकों को दो हजार और बीएड, एमए योग्यता वाले शिक्षकों को तीन हजार रुपये मिलते थे. अगर केंद्र से इन शिक्षकों को पैसा मिलता तो इन्हें 10 हजार और 15 हजार रुपये मिलने लगेंगे.

योगी सरकार व्यापारियों को देगी बिजली बिल में छूट, केंद्र को भेजा प्रस्ताव\

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें