यूपी बोर्ड: अब 10-12 वीं की परीक्षा होगी साल में दो बार, एग्जाम पैटर्न भी बदला

Smart News Team, Last updated: Sun, 31st Jan 2021, 7:27 AM IST
  • यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं को लेकर बड़ा बदलाव किया है. अब साल में दो बार एग्जाम आयोजित होंगे. साथ ही परीक्षा पैटर्न में भी बोर्ड ने बदलाव किया है. अब एक पेपर बहुविकल्पीय होगा, जिसमें 30 प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे.
यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में बड़ा बदलाव किया गया है. अब 10-12 वीं की परीक्षा साल में दो बार आयोजित की जाएंगी.

लखनऊ. यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं साल में अब दो बार आयोजित की जाएंगी. साल 2023 से यह नया नियम लागू हो जाएगा. इसका फायदा उन छात्रों को मिलेगा, जिनका विषयों में नंबर कम है, उन्हें नंबर बढ़ाने का मौका मिलेगा. इसके साथ ही परीक्षा पैटर्न में भी बदलाव किया जाएगा. प्रस्तावित नए पैटर्न के तह दो पेपर आयोजित किए जाएंगे.

पहला पेपर बहुविकल्पीय होगा, जो कि एक घंटा का होगा और दूसरा पेपर वर्णनात्मक होगा, जो कि दो घंटे का होगा. 30 प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे और इनकी परीक्षा ओएमआर शीट पर ली जाएगी. इसके बाद दूसरा पेपर वर्णनात्मक होगा. इस पेपर में उच्चतर चिंतन कौशल के प्रश्न भी शामिल किए जाएंगे. यह पेपर 70 नंबर का होगा. साल 2023 से हाईस्कूल की परीक्षा और साल 2025 से इंटरमीडिएट की परीक्षा पैटर्न में नए बदलाव लागू कर दिए जाएंगे. वहीं, ये पैटर्न क्लास 9 वीं के छात्रों के लिए साल 2021 से ही लागू होगा.

यूपी बोर्ड के छात्रों को सिखाया जाएगा स्पेनिश, फ्रेंच, जर्मन और शास्त्रीय भाषा

माध्यमिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने बताया कि यूपी बोर्ड के सभी छात्रों को साल में दो बार परीक्षा देने का मौका मिलेगा. इससे छात्र बिना तनाव के परीक्षा दे सकेंगे. पहली बार परीक्षा अपने तय समय पर आयोजित की जाएगी. वहीं, दूसरी बार रिजल्ट में सुधार के लिए परीक्षा होगी. उन्होंने बताया कि यह नए बदलाव नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत करने का फैसला लिया गया है.

UP: आंगनबाड़ी कर्मी चयन प्रक्रिया जारी, जानें योग्यता और कैसे आएगा मेरिट में नाम

आराधना शुक्ला ने बताया कि कक्षा नौ से कक्षा 12 तक के छात्रों को अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाने के लिए स्कूलों में एक सेक्शन अंग्रेजी माध्यम का बनाया जाएगा, जहां छात्रों को अंग्रेजी पढ़ाई जाएगी. साथ ही विदेशी और शास्त्रीय भाषाओं की भी पढ़ाई छात्र कर सकेंगे. ऑनलाइन माध्यम से छात्रों को पढ़ाने की व्यवस्था की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें