अब जब कार सेवा होगी तो रामभक्तों, कृष्णभक्तों पर गोली नहीं चलेगी, पुष्पवर्षा होगी: योगी

Ankul Kaushik, Last updated: Wed, 3rd Nov 2021, 6:52 PM IST
  • यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या दीपोत्सव में समाजवादी पार्टी या अखिलेश यादव का नाम लिए बिना कहा कि पहले सरकार का पैसा कब्रिस्तान की दीवार बनाने पर खर्च होता था लेकिन आज जनता के कल्याण और मंदिर पर खर्च हो रहा है.
अयोध्या दीपोत्सव कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, फोटो क्रेडिट (बीजेपी ट्विटर)

लखनऊ. दीपोत्सव के मौके पर अयोध्या पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि आप देखना कि अगर अगली कारसेवा होगी, तो गोली नहीं चलेगी. रामभक्तों व कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी. योगी आदित्यनाथ ने कहा- "अयोध्या दीपोत्स्व में बहुत से साधु-संत हैं जो 31 साल पहले 30 अक्टूबर और 2 नवंबर की घटना के साक्षी होंगे. तब रामभक्त कारसेवकों पर बर्बर तरीके से गोलियां चली, लाठियां बरसाई गईं. तब जय श्रीराम बोलना अपराध माना जाता था. तब राम मंदिर की बात करना अपने आप में अपराध होता था. लेकिन लोकतंत्र में कितनी ताकत होती है इसका अहसास आपने कराया है."

योगी ने बिना मुलायम सिंह यादव या अखिलेश यादव का नाम लिए आगे कहा- "उसी ताकत का असर है कि जो 31 वर्ष पहले गोलियां चला रहे थे वो आज आपकी ताकत के सामने झुके हैं. और कुछ दिन और इसी तरह आप ले चले तो अगली कार सेवा के लिए वे और उनका खानदान लाइन में लगेगा. अगली कार सेवा जब होगी तब गोली नहीं चलेगी, तब रामभक्तों पर, कृष्णभक्तों पर पुष्पों की वर्षा होगी. और यही लोकतंत्र की ताकत है." पिछली सरकारों में ये पैसा कब्रिस्तान की दीवार बनाने में खर्च होता था, आज मंदिरों के पुनर्निर्माण और सुंदरीकरण पर खर्च हो रहा है.

योगी सरकार के मंत्री का दावा- ISI के इशारे पर जिन्ना का गुणगान कर रहे अखिलेश

जो लोग 31 साल पहले रामभक्तों पर गोलियां चला रहे थे, वो आपकी ताकत के आगे झुके हैं. इसके साथ ही सीएम योगी ने अयोध्या दीपोत्सव कार्यक्रम में कहा- मुझे याद है कि 2017, 2018, 2019 में भी एक ही नारा गूंज रहा था योगी जी एक काम करो, मंदिर का निर्माण करो. मैं तब भी कह रहा था कि मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला तैयार की जा रही है. आज मंदिर निर्माण हो रहा है और संतजन समेत सभी लोग खुश हैं. 31 साल पहले अयोध्या में क्या हो रहा था. 30 अक्टूबर और 2 नवंबर 1990 को रामभक्तों पर बर्बर तरीके से गोलियां चलाई गईं थीं. बर्बर लाठीचार्ज हो रहा था तब 'जय श्रीराम' बोलना अपराध माना जा रहा था.

लगातार 13वें साल वनटांगियों के साथ दिवाली मनाने तिनकोनिंया गांव पहुंच रहें CM योगी आदित्यनाथ

अयोध्या आज केवल त्रेता युग की दीपावली का ही साक्षी नहीं बन रहा है, बल्कि त्रेता युग के विकास का भी साक्षी बन रहा है. लखनऊ, आगरा, काशी, प्रयागराज, चित्रकूट, गोरखपुर, नैमिषारण्य समेत प्रत्येक मंदिर में भी भव्य दीपोत्सव को जोड़कर पूरी भव्यता के साथ इस कार्यक्रम आगे बढ़ाने का कार्य हुआ है. अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण चल रहा है. प्रदेश के 500 तीर्थस्थलों व मंदिरों के विकास को लेकर यूपी सरकार व केंद्र सरकार कार्यरत है, जिसमें 300 से अधिक कार्य पूरे हो चुके, शेष कार्य दो महीनों में पूरे होंगे.

UP में दिवाली के बाद योगी सरकार करेगी 22 हजार पदों पर भर्ती, जानें किन पदों पर कितनी वैकेंसी

सीएम योगी ने कहा कि पहले लोग बोलते थे, परिंदा भी पर नहीं मार सकता था. 31 साल पहले हुआ था, वह मंजर कोई रामभक्त और कोई अयोध्यावासी उसे कभी भूल नहीं सकता है. अयोध्या में जब भव्य श्रीराम मंदिर बनेगा, उसके साथ ही अयोध्या देश व दुनिया की सबसे अच्छी धार्मिक और आध्यात्मिक नगरी होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें