यूपी: 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को CM योगी आदित्यनाथ ने दिए नियुक्ति पत्र

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 01:23 PM IST
  • यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटे. इस दौरान सीएम योगी ने विभिन्न जिलों में नवनियुक्त शिक्षकों को वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से बातचीत भी किए. 
यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटे.

लखनऊ. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटे. सीएम योगी लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में सांकेतिक रूप से पांच शिक्षकों को नियुक्त पत्र दिए. इस दौरान सीएम योगी ने विभिन्न जिलों में नवनियुक्त शिक्षकों को वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से बातचीत भी किए. यूपी सरकार के सीएम ऑफिस से ट्वीट कर जानकारी दी गई कि सीएम योगी आदित्यनाथ 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटे.

मिशन रोजगार के तहत सीएम योगी आदित्यनाथ ने 36,590 नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिए. एनआईसी के माध्यम से सीएम सभी 75 जिलों के नवनियुक्त शिक्षकों से बातचीत किए. हर जिले में कार्यक्रम आयोजित हुए. हर जिले में कार्यक्रम के दौरान सांसद, मंत्री या विधायक ने 5-5 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र बांटा.

खुशखबरी! UP में 36,590 शिक्षकों को 5 दिसंबर को नियुक्ति पत्र मिलेगा

लखनऊ: PM मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी का वीडियो वायरल, आरोपी के खिलाफ केस दर्ज

बता दें कि यूपी 69,000 शिक्षक भर्ती में बचे हुए 36,590 पदों पर पदों पर भर्ती के लिए 2 से 4 दिसम्बर के बीच काउंसलिंग प्रक्रिया आयोजित हुई थी. 5 दिसंबर को चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र सौंपने का कार्यक्रम तय किया गया था. पहले चरण में नियुक्ति पत्र 16 अक्टूबर को बांटे जा चुके हैं. पहले चरण में 31,277 पदों पर नवनियुक्त शिक्षकों को पत्र जारी किया गया था.

यूपी 69,000 शिक्षक भर्ती में एससी-एसटी वर्ग में मेरिट न मिलने से 1133 सीटें खाली रह जाएंगी. इन खाली सीटों को नियम के मुताबिक भरा जाएगा. 22 दिसंबर 2018 को 69,000 शिक्षक भर्ती की अधिसूचना जारी हुई थी. 6 जनवरी 2019 को परीक्षा आयोजित हुई. 6 फरवरी 2019 रिजल्ट जारी हुआ, लेकिन सरकार द्वारा तय किए गए कटऑफ को लेकर कुछ शिक्षक अभ्यर्थियों ने आपत्ति जताते हुए कोर्ट में चल गए. यह मामला पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट में गया फिर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार के पक्ष में फैसला दिया, तब इस भर्ती का रास्ता साफ हुआ. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें