योगी सरकार ने जारी की UP मोहर्रम गाइडलाइंस, घर पर ताजिया रखने की परमिशन, जुलूस पर पाबंदी

Smart News Team, Last updated: Sun, 15th Aug 2021, 8:00 AM IST
  • यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में मुहर्रम को लेकर विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं. योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में मुहर्रम जुलूस और ताजिया जुलूस रोक लगा दी है. धार्मिक कार्यक्रमों में 50 से ज्यादा लोगों के शामिल होने पर रोक लगाई गई है.
योगी सरकार ने मुहर्रम को लेकर जरुरी दिशा-निर्देश जारी किये.( फाइल फोटो )

लखनऊ: कोरोना महामारी को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मुहर्रम जुलूस निकालने पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है. इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार ने शनिवार को मोहर्रम के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी करते हुए कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए घरों में ताजिया रखने की परमिशन दी है. इसी के साथ मुख्यमंत्री ने अपील की है किसी भी धार्मिक कार्यक्रम में 50 से ज्यादा लोग शामिल ना हों. इसके अलावा सरकार ने जिलों के जिलाधिकारियों और एसपी को मुहर्रम के दौरान कानून व्यवस्था को बनाये रखने और शरारती तत्वों पर नजर रखने के आदेश दिए हैं.

यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने शनिवार को मोहर्रम की गाइडलाइंस जारी करते हुए धार्मिक स्थल पर कोविड नियमों का पालन करने की अपील की है. कंटेनमेंट जोन को छोड़कर शेष स्थानों के धर्मस्थलों के व्यवस्था को देखकर एक स्थान पर अधिकतम 50 श्रद्धालुओं के एकत्र होने की अनुमति इस शर्त के साथ दी गई है कि, इस स्थान पर मौजूद लोगों ने मास्क, दो गज की दूरी, सैनेटाइजर का प्रयोग किया हो. इसके अलावा कार्यक्रम में कोविड नियमों का सख्ती से पालन किया जा रहा हो. योगी सरकार ने घर पर ताजिया रखने की अनुमति दी है. इसी के साथ मजलिस में 50 लोगों के शामिल होने की भी अनुमति दी गई है.

सरकारी संपत्ति बेचकर देश को कंगाल बना रही मोदी सरकार : अखिलेश यादव

शासन द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि मोहर्रम के मौके पर लोगों को किसी भी प्रकार का जुलूस या ताजिया निकालने की अनुमति नहीं होगी. सार्वजनिक स्थानों पर किसी भी प्रकार की शस्त्रों का प्रदर्शन करने तथा अवैध शस्त्र लेकर चलने पर लोगों के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. शासन ने कहा है कि ताजिया एवं अलम की घरों में स्थापना करने पर कोई रोक नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें